हर घर को बिजली बिहार में बेमानी

 73 



हर घर को बिजली बिहार के ओरंगाबाद जिले में बेमानी नारा साबित हो रहा है. जिले का झारखंड से सता नवीनगर प्रखंड के टंडवा ग्राम पंचायत के निवासी आज भी आदम जमाने में जीने को अभिशप्त हैं. सुदूर गाँव की बात क्या की जाए टंडवा बाज़ार का हाल बेहाल है.
गर्मी का मौसम शुरू होते ही बिजली ने अपनी आंख मिचौनी शुरू कर दी है. बिजली कब आती है और कब जाती है कोई नहीं जनता. बिजली आती भी है तो रही सही कसर लो वोल्टेज पूरी कर देती है. गर्मी से राहत मिलने का अहसास लोग पंखा को देखकर करने मात्र को मजबूर हैं. दूसरी ओर विभाग इस भीषण गर्मी में मेंटेनेंस कार्य के नाम पर लगातार घंटों तक विद्युत् आपूर्ति बाधित करते हैं. गर्मी में एक तरफ लोगों की परेशानी चरम पर है तो वहीं विभाग पूरी तरह लापरवाह बना हुआ है.
हवा की हल्की सी बयार के बाद घंटों बिजली गुल रहना आम बात है. हल्की सी हवा चलने के बाद आपूर्ति बाधित करना आम बात है, जिसके बाद घंटों बिजली गुल रहती है. उधर उपभोक्ताओं से ससमय बिजली बिल भुगतान करवाने में तो विभाग तत्पर रहता है पर मेंटेनेंस कार्य समय पर करने या इस सम्बन्ध में कोई जवाब देने वाला नहीं. कई माह पूर्व टंडवा बाज़ार में यत्र- तत्र जर्जर तार व बांस बल्ला से बिजली प्रवाहित तार को हटाने के उद्देश्य से दर्जनों पोल विभिन्न जगहों पर गाड़ा गया. पर पोल गाड़ने के बाद विभाग चैन की नींद सो गया. विभाग को उपभोक्ताओं की परेशानी से कोई लेना देना नहीं रहा.


बताया जाता है कि पोल गाड़ने का काम करने वाली कंपनी काम अधूरा छोड़ कर भाग गयी. बाजार के हर मोहल्ले- गली में कई माह पूर्व पोल गड़े पोल अब हाथी का दांत साबित हो रहे हैं. पोल गाड़ने के बाद उस पर तार ले जाने का जहमत विभाग ने अभी तक नहीं उठाया. ज्ञात है कि सभी मोहल्ला- गली में विभाग को कवर्ड वायर के साथ हर जगह अतिरिक्त ट्रांसफार्मर लगाना था. लेकिन महीनों बाद आज भी सारी योजना दिवास्वप्न है. स्थानीय लोगों को विश्वास था कि पोल गाड़ने के बाद चार नये ट्रांसफार्मर लग जायेंगे लेकिन कवर्ड वायर और ट्रांसफार्मर तो दूर उल्टे लो वोल्टेज की समस्या खड़ी हो गयी.
तेज धूप के कारण लोग जहां बेहाल हैं वहीं बढ़ती गर्मी ने छोटे बच्चों की परेशानी काफी बढ़ा दी है. मौसम की मार झेल रहे बच्चों के लिए नीत नयी बीमारियों की सौगात मिल रही है. वे नाना प्रकार की बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं. अविलंब कवर्ड वायर व ट्रांसफार्मर नहीं लगाये जाने पर ग्रामीणों का बढ़ता आक्रोश कभी भी आंदोलन का रूप ले सकता है.
– टंडवा से फकरुद्दीन की रिपोर्ट

loading…


Loading…


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *