हमारे सिर्फ 44 सांसद, हकीकत समझे कांग्रेस : मणिशंकर अय्यर

 70 


कांग्रेस के एक और वरिष्ट नेता मणिशंकर अय्यर ने पार्टी को नए सिरे से अपनी हालत पर सोचने की नसीहत दी है। अय्यर ने गुरुवार को कहा कि कांग्रेसियों को अब सच्चाई समझने की जरूरत है। हमारे पास सिर्फ 44 सांसद हैं, हमको कई बड़ी निराशाओं का सामना करना पड़ा है।
मणिशंकर अय्यर ने अपने बयान में जयराम रमेश की बातों का खुलकर समर्थन करते हुए कहा कि रमेश ने कुछ गलत नहीं कहा। उन्होंने बिल्कुल सही बात कही। कांग्रेस के लोगों को अब तो हकीकत समझनी ही चाहिए। हमारे सिर्फ 44 सांसद हैं। और हमने कई बड़ी निराशाओं का सामना किया है। रमेश सच्चे कांग्रेसी हैं। उनकी बातों को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए। उन्होंने कई बातें कही हैं। अगर रमेश ने पार्टी के बारे में कुछ बातें कही हैं, तो उन पर गौर किया जाना चाहिए। उनका हल खोजा जाना चाहिए। अगर ऐसा नहीं किया गया तो हम आगे भी नहीं बढ़ सकेंगे।


सोमवार को जयराम रमेश ने कहा था कि कांग्रेस अपने वजूद के खतरे का सामना कर रही है। सल्तनत चली गई, हम सुल्तानों जैसे ही सोच रहे हैं। रमेश ने अपनी ही पार्टी पर कई तंज कसे और नसीहतें भी दीं थीं। उन्होंने कहा था कि कांग्रेस इस वक्त वजूद के खतरे से जूझ रही है। इन हालात से निपटने के लिए सभी नेताओं को एक साथ आने की जरूरत है। रमेश ने साफ तौर पर कहा कि कांग्रेस को ये चैलेंज नरेंद्र मोदी और अमित शाह की तरफ से मिल रहा है। पार्टी की तरफ से फिलहाल हालात को संभालने की जो कोशिशें की जा रही हैं, वो काफी नहीं हैं। सल्तनत चली गई। लेकिन हम भी अब भी यही सोचते हैं कि हम ही सुल्तान हैं।
जयराम रमेश ने कहा था कि ये सही है कि कांग्रेस पार्टी इस वक्त बेहद सीरियस क्राइसिस का सामना कर रही है। 1996 से 2004 तक पार्टी सत्ता से बाहर थी और तब भी हमने इसी संकट का सामना किया था। 1977 में इसी क्राइसिस का सामना किया था। उस वक्त इमरजेंसी के ठीक बाद चुनाव हुए थे। हमें ये समझ लेना चाहिए कि हमारा मुकाबला नरेंद्र मोदी और अमित शाह से है। वो अलग तरीके से काम करते हैं। अगर हमने अपनी अप्रोच फ्लैक्सीबल नहीं किया तो लोग हमें खारिज कर देंगे। कांग्रेस को अब ये मान लेना चाहिए कि देश बदल रहा है। पुराने नारे अब काम के नहीं रहे और ना ही पुराने समीकरण अब काम करते हैं। पुराने मंत्री भी काम के नहीं रहे। साफ है कि देश बदल रहा है तो कांग्रेस को भी बदलना होगा।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading…


Loading…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *