देश के 434 शहरों की गुरुवार को जारी सफाई सूची के अनुसार देशभर में 146वां स्थान प्राप्त कर बिहार में बिहारशरीफ सबसे साफ शहर बना। इस सर्वे में बिहार से 27 शहरों ने भाग लिया थाl पटना को 262वें स्थान से संतोष करना पड़ा, जबकि पटना ऑनलाइन कैंपेनिंग में इंदौर से ज्यादा पीछे नहीं थाl
नगरनिगम ने दावा किया कि पटना को स्मार्ट बनाने की दिशा में अच्छा काम हो रहा है। लेकिन निगम की कलई तब खुल गई, जब इसे देशभर के 434 शहरों में हुए सफाई सर्वेक्षण में 262वां स्थान मिला। हाँलाकि प्रकाशोत्सव के दौरान हुई सफाई व्यवस्था की खूब चर्चा हुई थीl इसे मेंटेन रखने के लिए स्थायी समिति और नगर आयुक्त ने लगातार बैठकें की, लेकिन सफाई की स्थिति तुरंत ही खराब होने लगी थी। मार्च के पहले हफ्ते में शहर में चल रही सफाई व्यवस्था की जांच करने शहरी विकास मंत्रालय की टीम ने पटना पहुंचकर दो दिन के अंदर 180 किलोमीटर घूमकर लोगों से फीडबैक प्राप्त किया। इसके बाद 3- 4 दिन निगम में सफाई की कागजी तैयारियों को जांच की गई।
पटना नगर निगम के आयुक्त अभिषेक सिंह कहते हैं कि शहरी विकास मंत्रालय को पत्र लिखूंगा, क्योंकि जिसवक्त ऑनलाइन सर्वे बंद हुआ था, पटना 100 साफ शहरों की लिस्ट में था, इतना पीछे कैसे चला गया? साथ ही सर्वे रिपोर्ट सौंपने के तीन महीने बाद रिजल्ट का आना भी सवाल खड़ा करता है।
राजधानी पटना सहित बिहार के कुल 27 शहरों ने प्रतियोगिता में भाग लिया था। इनमें बिहारशरीफ 146वें,
किशनगंज 257, पटना 262, बेतिया 270, हाजीपुर 272, भागलपुर 275, सासाराम 278, बोधगया 293, मुजफ्फरपुर 304, जहानाबाद 307, बक्सर 327, डेहरी 334, पूर्णिया 342, मोतिहारी 348, दरभंगा 356,
औरंगाबाद 357, गया 362, सीवान 376, आरा 390, दानापुर 391, सहरसा 396, बेगूसराय 404, जमालपुर 414, मुंगेर 415, छपरा 422, कटिहार 430 और बगहा 432वें स्थान पर रहेl
बिहार के दृष्टि से सर्वाधिक निराशजनक स्थिति यह है कि प्रदेश में टाप पर रहने वाले बिहारशरीफ को देश में 146वां स्थान प्राप्त हुआ, जबकि बाटम (सबसे नीचे) के 50 शहरों में बिहार के 9 शहर यानी कि भाग लेने वाले एक तिहाई शहर रहेl

loading…



Loading…




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *