बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से गुरुवार को मुलाकात की। जदयू का मानना है कि बीजेपी सरकार से लड़ने के लिए अपोजिशन को एक होना चाहिए तथा देशहित में अपोजिशन लीडर को मजबूत होना चाहिए।
माना जा रहा है कि नीतीश सोनिया की मुलाकात के दौरान प्रेसिडेंट इलेक्शन पर भी बातचीत हुई, जिसमें कहा गया कि सभी विपक्षी दलों को मिलकर प्रेसिडेंट के लिए कैंडिटेड नॉमिनेट करना चाहिए। हालांकि, इस बात से जेडीयू स्पोक्सपर्सन के सी त्यागी ने इनकार करते हुए कहा कि इस मीटिंग में प्रेसिडेंट इलेक्शन को लेकर बात नहीं हुई।
त्यागी ने कहा कि सबसे बड़ी संवैधानिक पोस्ट के लिए ज्वाइंट अपोजिशन का कैंडिडेट होना चाहिए और सबसे बड़ी अपोजिशन पार्टी की लीडर होने के नाते सोनिया गांधी को नेतृत्व करना चाहिए। नीतीश कुमार ने इस बारे में लेफ्ट पार्टियों के नेताओं से भी बात की है और उन्हें अच्छा रेस्पॉन्स मिला है।
नीतीश कुमार और सोनिया गांधी की इस मुलाकात को औपचारिक भी कहा जा रहा है। बिहार में कांग्रेस जदयू की सहयोगी है और पिछले कुछ दिनों से सोनिया गांधी की तबीयत भी खराब थी। हालांकि बिहार की तर्ज पर नेशनल लेवल पर भी नीतीश कुमार महागठबंधन की बात लगातार करते रहे हैं।

loading…



Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *