उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को योग महोत्सव में कहा कि लोग साधु संतों को भीख नहीं देते हैं, लेकिन देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने मुझे उप्र की सत्ता की बागडोर सौंप दी है। योग पर चर्चा करते हुए योगी ने कहा कि सूर्य नमस्कार भी कुछ हद तक नमाज से मिलता जुलता है।

लखनऊ के इंदिरागांधी प्रतिष्ठान में आयोजित उत्तर प्रदेश योग महोत्सव में बोलते हुए योगी ने कहा कि नरेंद्र मोदी जब देश के प्रधानमंत्री बने तो देश की अर्थव्यवस्‍था डांवाडोल थी। देश में अविश्वास व अराजकता का माहौल था, लेकिन अपने तीन वर्ष के कार्यकाल में उन्होंने देश को स्थिरता प्रदान की। PM के नेतृत्व की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि देश में नोटबंटी देश के ईमानदार नेतृत्व के कारण हो सकी। उन्होंने कहा कि हम भी उप्र के विकास के लिए प्रधानमंत्री मोदी के तरह बड़े फैसले लेने से नहीं हिचकेंगे।

अपने मुख्यमंत्री बनाने को लेकर उन्होंने कहा कि मुझे पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने उप्र जाने को कहा तो मैंने जवाब दिया कि मैं वहीं से तो आ रहा हूं। तब उन्होंने हंसते हुए कहा कि आपको वहां का मुख्यमंत्री बनाया जा रहा है। तब मैं हैरान था क्योंकि उस समय यहां आने के लिए मेरे पास एक जोड़ी कपड़े भी नहीं थे।

योग पर चर्चा करते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 2014 में से पहले योग को सांप्रदायिक माना जाता था, लेकिन अब योग को लोहा पूरा विश्व मान चुकी है। उन्होंने कहा कि सूर्य नमस्कार भी कुछ हद तक नमाज से मिलता जुलता है। इसे सांप्रदायिक नजरिए से नहीं देखना चाहिए। उन्होंने कहा कि योग की कई ऐसी क्रियाएं हैं, जिन्हें व्यक्ति बैठे-बैठे ही कर सकता है। हर जाति व धर्म का व्यक्ति योग का लाभ उठा सकता है।

उन्होंने कहा कि मैं पूरा यूपी घूम चुका हूं। मुझे यहां की हर बीमारी पता है। मेरी पार्टी ने प्रदेश से अराजकता, भ्रष्टाचार व गुंडागर्दी खत्म करने के लिए यूपी की जिम्मेदारी सौंपी है। पीड़ित लोगों की सेवा में हरसंभव कदम उठाऊंगा। गौरतलब है कि लखनऊ में इन दिनों योग महोत्सव चल रहा है। जिसमें योग गुरु बाबा रामदेव भी पहुंचे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *