उत्तर प्रदेश में करारी हार के बाद समाजवादी पार्टी में दो फाड़ हो गया है. शिवपाल यादव ने समाजवादी सेकुलर मोर्चा नाम से अलग पार्टी बना ली है. इस पार्टी के अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव होंगे.
बता दें कि दो दिन पहले ही शिवपाल ने अखिलेश को अलग पार्टी बनाने का अल्टीमेटम दिया था. शिवपाल ने कहा था कि अगर मुलायम को दोबारा सपा का अध्यक्ष नहीं बनाया जाता है तो वह नई पार्टी का गठन करेंगे. आज उन्होंने नई पार्टी का नाम भी तय कर लिया और इसका औपचारिक ऐलान जल्द करेगे. शिवपाल ने कहा था कि अखिलेश यादव तीन महीने में अध्यक्ष पद मुलायम सिंह यादव को सौंपने का अपना वायदा पूरा करें वरना वह नई पार्टी बनाने के मकसद से धर्मनिरपेक्ष मोर्चे का गठन करेंगे. शिवपाल ने कहा कि अखिलेश यादव ने तीन महीने का समय मांगा था और कहा था कि तीन माह बाद पार्टी व पद वापस नेता जी (मुलायम सिंह यादव) को सौंप दूंगा। अखिलेश अपना वायदा पूरा करें वरना हम भी नई पार्टी बनाने के लिए सेक्युलर मोर्चे का गठन करेंगे।
उन्होंने कहा कि अखिलेश अब मुलायम को अब पद सोंपैं और समाजवादी परिवार को जोड़ने का काम करें। समाजवादी होने का जो लोग दावा ठोक रहे हैं, सभी को पता है पार्टी किसने खड़ी की है. शिवपाल ने कहा था कि जब भ्रष्ट अधिकारी भ्रष्टाचारी सत्ता से सीधी भागीदारी कर लेते हैं तब प्रदेश का बुरा हाल हो जाता है जो हमारी पूर्ववर्ती सरकार में हुआ. वही हाल अब होने लगा है. पिछले दो तीन माह में हमारे निर्वाचन क्षेत्र में सत्ता के नशे में भले लोगों के साथ जुल्म किया जा रहा है.
उन्होंने रामगोपाल यादव का नाम लिए बगैर कहा कि पार्टी संविधान रचयिता ‘‘शकुनि’’ को गीता पढ़ना चाहिए. सबको पता है सपा किसने बनाई. मुलायम ने सपा खड़ी की और लाखों लोगों को फायदा पहुंचाया है. हमारे लिए तो नेता जी ही सब कुछ हैं. जो लोग आज समाजवादी होने का दावा ठोक रहे हैं उन्होने ही लोकसभा चुनाव मे टिकट बांटे और संख्या पांच रह गई. शिवपाल ने कहा कि विधानसभा चुनाव में टिकट बांटे तो 227 से 47 की संख्या रह गई. अब वह खुद ही आकलन कर लें.

loading…



Loading…




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *