CRPF के काफिले पर पुलवामा में हुए आतंकी हमले की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कड़ी निंदा हो रही है. संयुक्त राष्ट्र सहित अमेरिका, रूस, चीन, फ्रांस, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया, इजरायल, टर्की, चेक रिपब्लिक, नेपाल, बांग्लादेश, भूटान, श्रीलंका और मालदीव आदि दुनिया के कई देशों ने हमले की निंदा करते हुए भारत के साथ खड़े रहने की बात कही है.
संयुक्त राष्ट्र ने पुलवामा हमले की निंदा करते हुए भारत सरकार के साथ अपनी हमदर्दी जताई है. इस वैश्विक संगठन ने जख्मी जवानों के जल्द ठीक होने की भी कामना की.
भारत में अमेरिका के राजदूत केनेथ जस्टर ने ट्वीट किया कि अमेरिका आतंकी हमले की निंदा करता है, हमले में जान गंवाने वाले जवानों के परिजनों के साथ हमारी संवेदनाएं हैं. व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने कहा कि- ‘‘अमेरिका पाकिस्तान से अपील करता है कि वह अपनी जमीन से आतंकी गतिविधियां चलाने वाले ऐसे सभी आतंकवादी समूहों को समर्थन और सुरक्षित पनाह तुरंत बंद करे जिनका एकमात्र लक्ष्य क्षेत्र में अव्यवस्था, हिंसा और आतंक फैलाना है.’’ उन्होंने आगे कहा कि- ‘‘यह हमला आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में अमेरिका और भारत के सहयोग और साझेदारी को बढ़ाने के हमारे संकल्प को और मजबूत बनाता है.’’
रूसी दूतावास ने इस हमले की निंदा करते हुए कहा कि- “ऐसी अमानवीय घटनाओं से निपटने के लिए सभी को बिना किसी दोहरे रवैये के साथ आना होगा”.
चीन ने भी पुलवामा आतंकवादी हमले की निंदा की है, लेकिन उसने पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूह जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र द्वारा अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित कराये जाने की भारत की अपील का समर्थन करने से एक बार फिर इनकार कर दिया.
नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने PM नरेंद्र से फोन पर बात कर हमले की निंदा की. उन्होंने कहा कि आतंकवाद को किसी भी कीमत पर जायज नहीं ठहराया जा सकता, नेपाल सरकार हर तरह के आतंकवाद की आलोचना करती है.
श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सीरिसेना ने कहा कि हम मृतकों के परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हैं और भविष्य में कहीं भी ऐसे हमले न हों इसके लिए प्रभावशाली कदम उठाने की जरूरत है.
बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने कहा कि वह इस हमले से दुखी हैं और उनका देश किसी भी तरह की आतंकी गतिविधि के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति पर चलेगा.
मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम सोहिल ने कहा कि हम हमले की निंदा करते हैं. आतंक के खिलाफ लड़ाई में मालदीव भारत व दुनिया के साथ है.
भूटान सरकार ने हमले की निंदा की और मृतकों के परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की. भूटान के विदेश मंत्री तांदी दोर्जी ने घटना पर दुख प्रगट करने के साथ ही विश्वास व्यक्त किया कि इस हमले के दोषियों को जल्द ही सजा मिलेगी.
दक्षिण एशिया मामले के विशेषज्ञ और विश्लेषक ब्रूस रिडेल ने पुलवामा में हुए आतंकी हमले को लेकर जैश का दावा करना पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI की भूमिका पर सवाल खड़े करता है. इससे पता चलता है कि इस हमले के मास्टरमाइंड को ISI मदद कर रही थी. उन्होंने कहा कि पाक प्रधानमंत्री इमरान के सामने पहली बड़ी चुनौती ये आतंकी संगठन हैं. अमेरिका में पाक राजदूत रहे हुसैन हक्कानी ने भी कहा कि पाकिस्तान को जैश के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए.


loading…

Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *