संतों के मार्गदर्शन में राम मंदिर की अगली रणनीति तय होगी : विहिप

 67 



विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु सदाशिव कोकजे अपनी पूरी टीम के साथ विवादित परिसर में रामलला के दर्शन किए.
कोकजे ने अपनी नयी कार्यसमिति के साथ हनुमानगढ़ी में माथा टेकने के साथ ही संतों और अपने अनुषांगिक संगठनों के साथ बैठक की. टीम ने पुरे दिन अयोध्या का भ्रमण किया साथ ही राम मंदिर से जुड़े स्थलों को देखा और उनके बारे मे जानकारी भी हासिल किया. सभी ने मंदिर कार्यशाला का भी बारीकी से निरीक्षण किया.
विहिप की टीम में कार्यकारी अध्यक्ष अशोक कुमार अधिवक्ता, उपाध्यक्ष चम्पत राय, महामंत्री विनायक राव देशपांडे सभी इस मुद्दे पर एक मत थे कि सुप्रीम कोर्ट को सेक्शन 142 के तहत असीम अधिकार है. वह न्याय को ध्यान में रख कर कोई भी आदेश कर सकता है. VHP इसी रणनीति पर कार्य करके न्यायालय को हिन्दू भावनाओं से अवगत कराएगी, ताकि कोर्ट को लगे कि राम मंदिर को लेकर जो अन्याय हुआ है, उस पर न्याय किया जाए.
कोकजे ने संतो के साथ बैठक मे राम मंदिर आंदोलन को संतों की प्रेरणा बताया, जिसका नेतृत्व विहिप नेता अशोक सिंघल ने किया था. उसके चलते हजारों साल के गुलामी के चिन्ह को जनभावनाओं और आस्था के चलते ढहा दिया गया था. अब अगला कदम कोर्ट के फैसले के बाद ही संत ही तय करेंगे. उन्होंने कहा कि राम मंदिर को बनना ही है. इसके लिए संसद मे कानून बनाना आखिरी रास्ता है, लेकिन सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद सारे विवाद स्वतः खत्म हो जाएंगे.


VHP के नवनिर्वाचित अध्यक्ष का कहना है कि हमें कोर्ट के फैसले का इंतजार करना चाहिए, जो जल्द ही आने वाला है और पूरा विश्वास है कि पक्ष में ही निर्णय होगा. इस बीच सड़क पर आंदोलन करना उचित नही होगा. उन्होंने यह भी कहा कि आंदोलन बंद नहीं हुआ है, वह वैचारिक आंदोलन के रूप में चल रहा है. हिन्दू समाज में राम मंदिर को लेकर जनजागरण के कार्यक्रम चल रहे हैं और इस जनभावनाओं को सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचाया जायेगा.
VHP के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष कोकजे का कहना था कि फैसला आने के बाद उसकी समीक्षा मिल बैठ कर की जाएगी और उस समय के माहौल को देख कर अगली रणनीति तय की जाएगी. वैसे भी VHP की ओर से राम मंदिर को लेकर अब तक रणनीति और आंदोलन संतो के निर्देश पर ही चले और बने हैं. भविष्य में भी संतों के दिशानिर्देश पर ही अगला कार्यक्रम तय होगा. अपने देश में संतो को सदैव राजा से बड़ा माना जाता रहा है.
VHP नेताओं ने कहा कि हमारे नए कार्यकारी अध्यक्ष अशोक कुमार भी वकील ही है, जो फुलटाइम विहिप के कानूनी पक्ष का अध्ययन करेंगे तथा कोर्ट मे राम मंदिर का पक्ष मजबूती से रखने के लिए देश के बड़े से बड़े वकीलों को कोर्ट मे खड़ा किया जाएगा.
बाबरी मस्जिद के मुद्दई मोहम्मद इकबाल अंसारी ने कहा है कि अब VHP ने नया शगूफा धारा 142 का छेड़ा है, जिसमें कहा जा रहा है कि कोर्ट अपनी असीम पावर से कोई भी फैसला सुना सकता है. मेरी जानकारी में कोर्ट साक्ष्यों के आधार पर ही फैसला करता है. इस पर मैं अपने वकील से बात करूंगा, हम कोर्ट पर भरोसा रखते हैं. हम लोग VHP के डबल टॉक से परिचित है, अब फिर 2019 के चुनाव को लेकर माहौल बनाया जा रहा है.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *