शिक्षा विभाग : “हर डाल पर उल्लू बैठा है, अंजामे गुलिस्ता क्या होगा?”

 109 


बिहार के शैक्षणिक जगत में उपर से नीचे तक व्याप्त भ्रष्टाचार ने पूरे सिस्टम को खोखला कर दिया है. मुख्यमंत्री, शिक्षामंत्री, प्रधान सचिव शिक्षा विभाग या बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के आलाधिकारी लाख प्रयत्न कर लें, विभाग की स्थिति “हर डाल पर उल्लू बैठा है, अंजामे गुलिस्ता क्या होगा?” वाला ही है.
प्रदेश में मैट्रिक, ITI, इंटर, SSC या BPSC की परीक्षा हो. हर जगह घोटाला और उच्च स्तरीय कदाचार के मामले सामने आते रहे हैं. जब कभी कोई मामला मीडिया में काफी चर्चित होता है, तब जाँच, पकड़- धकड़, केश- मुकदमे और फिर कुछ लोगों पर कारवाई. इतिश्री, रेवा खंडे. परिणाम ढाक के वही तीन पात.


विभाग में बैठे जालसाजों के कान पर जूं तक नहीं रेंगता. उनकी कहानी व करतूत बदस्तूर जारी रहती है. आज ही 22 जुलाई से प्रारम्भ हुयी एक परीक्षा में शिक्षकों द्वारा उत्तर पुस्तिका लिखने का मामला सामने आया है. यही नहीं, शिक्षक अपने मूल विद्यालय से लगभग 40- 50 KM दूर स्थित परीक्षा केंद्र तक जाकर पास- फेल करने और कराने का कार्य कर रहे हैं.
एक नजर में यह घटना एक शिक्षक द्वारा परीक्षा की उत्तर पुस्तिका लिखने मात्र की ही लगती है. पर मामला सिर्फ इतना भर नहीं है. इस पुरे मामले में मुख्यालय में बैठे धन्धेबाज़, विभाग के जिलास्तरीय फ्दाधिकारी, शिक्षकों व जालसाजों की पूरी एक फौज शामिल है. यह मामला कहाँ का है, इसके लिए किये गये घोर- मट्ठे की पूरी जानकारी, अगले किश्त में, जल्द ही…… हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading…


Loading…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *