कोलकाता की टीपू सुल्तान मस्जिद के शाही इमाम अपनी गाड़ी पर लाल बत्ती लगाकर घूमते देखे गए। जब पत्रकारों ने इस बारे पूछा तो उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी बोली कि आप जला के रखें, खूब जलाएं, आप घूमते रहें, हम हैं।
केंद्र सरकार द्वारा लाल बत्ती पर पाबंदी लगा दी गई है। नए नियमों के मुताबिक, अब पुलिस वैन, फायर ब्रिगेड और एंबुलेंस के अलावा कोई भी लाल बत्ती का इस्तेमाल नहीं कर सकता। राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री को भी लाल बत्ती लगाने का अधिकार नहीं है। कोई भी मंत्री अब इसको नहीं लगा सकता। इससे पहले भी कई नेता लाल बत्ती को लेकर विवादों में रहे। कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा था कि वो बत्ती क्यों हटाए? सिद्धारमैया से जब मीडिया ने लाल बत्ती को लेकर सवाल पूछा तो उन्होंने कहा कि मैं अभी क्यों लाल बत्ती हटाऊं? बत्ती एक मई से हटाई जानी है। मैं उस समय बत्ती हटाऊंगा जब आदेश प्रभावी होगा। सरकार के आदेश के अनुसार लाल बत्ती हटाने की डेडलाइन 1 मई है। लेकिन ज्यादातर मंत्रियों ने लाल बत्ती हटा ली है। वीआईपी कल्चर पर रोक लागने के लिए 19 अप्रैल को लाल बत्ती पर रोक लगाने का फैसला सुनाया था। इस फैसले के तहत 1 मई से देश में किसी को भी आधिकारिक वाहनों पर लाल बत्ती लगाने की अनुमति नहीं होगी। लगाए बैन के अंतर्गत केंद्रीय मंत्री, मुख्यमंत्री, राज्य के कैबिनेट मंत्री, ब्यूरोक्रेट और सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के जज समेत सभी वीवीआईपी शामिल है।

loading…



Loading…




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *