रेप मामले में राम रहीम को 20 साल की सजा, 30 लाख जुर्माना

 79 


दो साध्वियों से रेप के मामले में डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम को सुरक्षा कारणों से रोहतक की सुनारिया जेल में बनाई गई अस्थाई CBI कोर्ट में जज जगदीप सिंह ने IPC की धारा 354, 376, 506, 511 के तहत दस- दस साल की कठोर कारावास की सजा सुनाई.
कोर्ट ने राम रहीम पर अलग-अलग मामलों में कुल 30 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया, इसमें 14-14 लाख रुपए दोनों पीड़ि‍ताओं को दिया जाएगा. 15 साल पुराने मामले में आए कोर्ट के फैसले पर CBI के वकील ने कहा कि ये बुराई पर अच्छाई की जीत है.
जज जगदीप सिंह ने फैसला सुनाने से पहले सजा पर बहस के दौरान इस मामले में उसके जुर्म की गंभीरता की ओर ध्यान दिलाया. जज ने राम रहीम की तरफ इशारा करते हुए कहा कि ‘आपने अपने प्रभाव का गलत इस्तेमाल किया है, आपने रेप जैसे अपराध को अंजाम दिया है.’ कोर्ट ने फैसला सुनाने के वक्त ये माना कि समाज का एक ऐसा शख्स जिसे लोग बाबा मानते हैं, उसे अलग-अलग रूप में देखते हैं. उसकी बातों को लोग गौर से सुनते हैं. इसके बाद भी उन्होंने ऐसे कुकृत्य को किया है, जिसे किसी भी सूरत में क्षमा नहीं किया जा सकता है.
जज ने कहा कि जब दोषी ने अपनी ही साध्वियों को नहीं छोड़ा और जंगली जानवर की तरह पेश आया तो वह किसी रहम का हकदार नहीं है. दूसरे शब्दों में इस शख्स का इंसानियत से कोई लेनादेना नहीं है और उसके स्वभाव में ही कोई रहमदिली नहीं है. विक्टिम्स ने तो दोषी को भगवान का दर्जा दिया था, दोषी ने अपने भोले-भाले अनुयायियों का सेक्शुअल असॉल्ट कर उनके भरोसे को गंभीर रूप से तोड़ा.
जज ने कहा कि ‘सुप्रीम कोर्ट ने भी कहा है कि रेप सिर्फ फिजिकल असॉल्ट नहीं होता, वह विक्टिम की पूरी पर्सनैलिटी को तबाह कर देता है. जज ने महात्मा गांधी के कोट्स का जिक्र किया जिसमें बापू ने कहा था कि – अगर हम महिला को समाज का कमजोर हिस्सा मानते हैं तो यह पुरुषों की महिलाओं के प्रति नाइंसाफी है, महिला के बिना पुरुष नहीं हो सकता. जज ने कहा कि सुनवाई के दौरान कईबार दोषी ने अपनी फिल्मों के प्रमोशन के लिए विदेश जाने की इजाजत मांगी, अर्जियों में कहा कि उसकी फिल्मों में करोड़ों रुपए लगे हैं, इसलिए प्रमोशन के लिए उसका विदेश जाना जरूरी है. साफ होता है कि दोषी के पास पैसे की कमी नहीं है, वह बड़ी दौलत का मालिक है. उसके पास विक्टिम्स को हर्जाना देने के लिए काफी फाइनेंशियल रिसोर्सेस हैं.


दोनों पक्षों की बहस खत्म होने के बाद गुरमीत राम रहीम रहम की गुजारिश कर रहा था. वह गिड़गिड़ाते हुए सजा कम करने की गुजारिश कर रहा था. राम रहीम की आंखों में आंसू आ गए, उसके शरीर थरथराने लगे. डेरा की ओर से किए गए अच्छे कामों की बार-बार दुहाई देते हुए राम रहीम की कांपती हुई जुबान पर बस एक ही वाक्य था- ‘क्षमा कर दें’. जब जज ने उसे 10 साल की सजा सुना दी तो वह गुस्सा हो गया, जोर-जोर से चिल्लाने लगा और वहीं जमीन पर बैठ गया. जिसके बाद कमांडो ने उसे वहां से हटाया.
सजा पर बहस के दौरान CBI ने कहा कि ये रेयरेस्ट ऑफ रेयर केस है इसलिए राम रहीम को अधिकतम सजा दी जानी चाहिए. जिसके बाद राम रहीम के वकील ने कोर्ट के बताया कि राम रहीम ने सामाजिक कार्य किए हैं. इसलिए सजा में नरमी बरती जानी चाहिए. फैसला सुनाए जाने के बाद डेरा सच्चा सौदा ने कहा कि फैसले के खिलाफ हम पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट जायेंगे.
रोहतक की सुनारिया जेल में बनाए गए कोर्ट रूम में केवल दोनों पक्षों के वकीलों को ही जाने की इजाजत थी. जज द्वारा फैसला पढ़े जाने के बाद दोनों पक्षों के वकीलों ने बाहर आकर इसकी जानकारी दी. इससे पहले सुरक्षा कारणों से पंचकूला सीबीआई कोर्ट के जज जगदीप सिंह हेलीकॉप्टर से रोहतक पहुंचे. जब से राम रहीम को कोर्ट ने दोषी करार दिया है. तभी से पूरे हरियाणा में तनाव बना हुआ है. हरियाणा के अलावा यूपी, राजस्थान और दिल्ली में भी सुरक्षा कड़ी कर दी गई है. राम रहीम को सजा सुनाए जाने के बाद कोई हिंसक घटना ना हो इसके लिए प्रशासन ने रोहतक और सिरसा के साथ हरियाणा के सभी जिलों में सुरक्षा के कड़े इंजताम किए हैं. रोहतक जेल के बाहर किसी भी संदिग्ध के देखे जाने पर गोली मारने के आदेश हैं.

25 अगस्त शुक्रवार को जब सीबीआई अदालत ने राम रहीम को दोषी ठहराया था तब हरियाणा, पंजाब, राजस्थान में उसके अनुयायियों ने काफी उत्पात मचाया था. राम रहीम के डेरा वाले शहर सिरसा में कर्फ्यू लगा दिया गया है. हरियाणा और पंजाब में मोबाइल इंटरनट सेवाएं मंगलवार साढ़े ग्यारह बजे तक निलंबित कर दी गयी. राम रहीम को सजा सुनाये जाने के तत्काल बाद भड़की हिंसा और आगजनी में मरने वालों की संख्या 38 हो गई है. हिंसा के सिलसिले में 52 मामले दर्ज कर 926 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. उन सभी डेरा कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया गया है जो समस्या खड़ी करने के लिए लोगों को बुला सकते हैं. रोहतक में धारा 144 लगी हुई है. सोमवार को हरियाणा में सभी सरकारी एवं निजी स्कूलों, कॉलेजों समेत सभी शैक्षणिक संस्थान एवं अन्य संस्थान बंद रहे.
राम रहीम को बलात्कार के मामले में दोषी करार करार दिए जाते ही उनके समर्थक हिंसक हो गए थे. 5 राज्यों में डेरा समर्थकों की हिंसा ने तबाही मचायी, आगजनी की. कई चैनलों की ओबी वैन सहित सैकड़ों वाहनों और इमारतों में आग लगा दी. पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने हिंसा और आगजनी से हुए नुकसान की भरपाई डेरा सच्चा सौदा से करवाने को कहा है.
अप्रैल 2002 में पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट और तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को एक साध्वी ने चिट्ठी के जरिए शिकायत भेजी थी. पत्र में लगाये गये आरोपों के जांच का जिम्मा सिरसा के सेशन जज को सौंपा गया और CBI को जांच के निर्देश दिए गए. दिसंबर 2002 में CBI ने राम रहीम पर धारा 376, 506 और 509 के तहत केस दर्ज किया. 2005- 2006 में सतीश डागर ने उस साध्वी को ढूंढा जिसका यौन शोषण हुआ था और मामले की जाँच की. सामने आया कि डेरे में 1999 और 2001 में कुछ और साध्वियों का भी यौन शोषण हुआ था. जुलाई 2007 में CBI ने अंबाला CBI कोर्ट में चार्जशीट फाइल की, जहां से केस पंचकूला शिफ्ट हुआ.
CBI की स्पेशल कोर्ट के जज जगदीप सिंह ने 15 साल बाद यौन शोषण मामले में डेरा चीफ राम रहीम को 25 अगस्त 2017 को दोषी करार दिया और 28 अगस्त को सजा सुनाई गयी.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading…


Loading…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *