रूस से भारत को मिलेगा 48 महाशक्तिशाली एमआइ-17 मिलिट्री हेलीकॉप्टर

 73 

रूस इस साल के अंत तक भारत को 48 Mi-17 हेलिकॉप्टर दे सकता है। इसके लिए भारत और रूस के बीच लगातार बातचीत हो रही है। 2012-13 के दौरान ये डील हुई थी। हाई टेक्नोलॉजी से लैस इन चॉपर का इस्तेमाल मिलिट्री ट्रांसपोर्ट के लिए किया जाता है। रूस के टॉप अफसर ने ये बात कही है।
न्यूज एजेंसी के मुताबिक रूसी आर्म्स सप्लायर रोसोबोरोनएक्सपोर्ट के सीईओ अलेक्जेंडर मिखीव ने कहा, “भारत के पास मौजूदा वक्त में Mi-8 और Mi-17 फैमिली के 300 हेलिकॉप्टर हैं। इनका वह फौजों के डिप्लॉयमेंट, पैट्रोलिंग, सर्चिंग-रेस्क्यू और मिलिट्री ट्रांसपोर्ट के लिए इस्तेमाल करता है। भारत अपनी जरूरतों को अच्छी तरह जानता है।” मिखीव ने ये बातें रूस के एयर शो के दौरान कहीं।

मिखीव की मानें तो भारत और रूस के बीच 48 Mi-17V-5 हेलिकॉप्टर को लेकर बातचीत चल रही है। उम्मीद है कि इस साल के खत्म होने के पहले डील हो जाएगी। बता दें कि पिछले साल रूस ने भारत को एक पुरानी डील के तहत 3 Mi-17V-5 हेलिकॉप्टर दिए थे।
Mi-17V-5, दुनिया के मोस्ट एडवांस्ड मिलिट्री ट्रांसपोर्ट हेलिकॉप्टर में शुमार किया जाता है। 2008 में रोसोबोरोनएक्सपोर्ट ने भारत को 80 Mi-17V-5 हेलिकॉप्टर सप्लाई की डील की थी, जो 2011-13 में पूरी हो गई। 2012-13 में 71 Mi-17V-5 हेलिकॉप्टर के लिए 3 और डील की गईं। भारत के साथ दूसरे डिफेंस प्रोजेक्ट के बारे में मिखीव ने कहा, “हम सुखोई-30 के मॉडर्नाइजेशन के बारे में भारत से लगातार चर्चा कर रहे हैं। भारत के पास काफी एयरक्राफ्ट हैं।”
“बीते 15 साल के दौरान हमने भारत की सभी जरूरतें पूरी की हैं। हम उन्हें नए डिजाइन भी दिखा रहे हैं। रूस, भारत की कैपेबिलिटीज को ध्यान में रखते हुए मेक इन इंडिया प्रोग्राम के तहत काम करने की बात कह चुका है। भारत-रूस मिलकर कामोव-226T हेलिकॉप्टर्स बनाएंगे।”

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading…


Loading…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *