राष्ट्रगान पर ट्वीट कर फंसे तेजस्वी, दर्ज हुआ देशद्रोह का मामला

 91 


पूर्व उपमुख्यमंत्री और राजद नेता तेजस्वी यादव की मुश्किलें कम होती नजर नहीं आ रही हैं। जदयू तकनीकी प्रकोष्ठ के इकबाल अंसारी ने CJM की कोर्ट में एक याचिका दायर कर तेजस्वी यादव और दो अन्य के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज कराया है। आरोप पत्र में कहा गया है कि 13 अगस्त 2017 को तेजस्वी यादव ने एक विवादित ट्वीट कर राष्ट्र गान का अपमान किया है।
जदयू तकनीकी प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष इकबाल अंसारी ने वंदे मातरम के अपमान को लेकर सीजीएम की कोर्ट में एक परिवाद दायर करते हुए याचिका में कहा गया है कि 13 अगस्त 17 को तेजस्वी यादव ने उमाशंकर सिंह नामक एक व्यक्ति के ट्वीट “बन्दे मारते हैं हम” के लिंक को अपने ट्विटर एकाउंट में शामिल करते हुए इस ट्वीट का न केवल समर्थन किया बल्कि ट्वीट कर कहा कि “सही कहा इनका “वंदे मातरम्” = बंदे मारते हैं हम”।


इस प्रकार के ट्वीट से राष्ट्रप्रेमियों को गहरा दुःख हुआ एवं ट्विटर पर लोगो ने भी तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की। एक पूर्व उपमुख्यमंत्री के ऐसे राष्ट्रविरोधी ट्वीट से यह बात साबित हो जाती है कि इनको अपना राजनीतिक स्वार्थ साधने के लिए न तो राष्ट्र के सम्मान की चिंता है और न ही राष्ट्र की छवि की।
श्री अंसारी ने अपनी याचिका में कहा है कि इस ट्वीट की इतनी आलोचना होने के बावजूद तेजस्वी ने अपने ट्वीट पर माफी तक नही मांगी, तब अंत में मुझे न्यायालय का सहारा लेना पड़ा। परिवाद पत्र मे तेजस्वी यादव व उमाशंकर सिंह को अभियुक्त बनाया गया है।
इन दोनों पर भारतीयों व भारतीयता का मज़ाक उड़ाने का भी आरोप है। इन दोनों के खिलाफ राष्ट्रद्रोह की धारा 124 (A), 120 (B) भा. दण्ड विधान, 501 (B) भारतीय दण्ड विधान, प्रिवेंशन ऑफ इंसल्ट टू नेशनल ऑनर एक्ट 69 (1971) के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading…


Loading…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *