रविवार को RSS और BJP के दो बड़े नेताओं ने देश के दो अलग अलग क्षेत्रों में रामजन्मभूमि पर बड़ा बयान दिया है. दोनों का निहितार्थ एक है कि श्रीराम मंदिर के भव्य निर्माण की सारी बाधाएं दूर हो चुकी हैं और जल्द ही निर्माण कार्य प्रारम्भ होगा.
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के प्रचारक इंद्रेश कुमार ने रविवार को लखनऊ के गोमती तट पर सनातन महासभा द्वारा आयोजित 37वीं आदि गंगा मां गोमती महाआरती कार्यक्रम में विशिष्ठि अतिथि के रूप में बोलते हुए कहा कि अब श्रीराम मंदिर के भव्य निर्माण की सारी बाधाएं दूर हो चुकी हैं. उन्होंने कहा कि सभी धर्मों के लोग अयोध्या में श्री रामलला के मंदिर के लिए साझा कार्यक्रम बना चुके हैं. उन्होंने कहा कि सनातन धर्म पूरी पृथ्वी को अपना कुटुंब मानता है और सबके सुख की कामना करता है. हम सबको मिलकर सनातन धर्म और संस्कृति का विस्तार करना है.
उधर मुंबई में मीडिया से बात करते हुए भाजपा के वरिष्ट नेता डा० सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि अगले साल अक्टूबर तक अयोध्या में राम मंदिर बन जाएगा. स्वामी ने दावा किया कि वो अगली दीवाली अयोध्या के राम मंदिर में मनाएंगे. स्वामी ने कहा कि अयोध्या में मंदिर के लिए तैयारियां पूरी हैं, वहां सब कुछ तैयार है. मंदिर बनाने का मटैरियल पहले ही तैयार कर लिया गया है, इसे केवल जोड़ना बाकी है. जैसा कि स्वामी नारायण मंदिर में हुआ था. मंदिर बनाने में वहां ज्यादा वक्त नहीं लगेगा.

स्वामी ने आगे कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में एफिडेविट देकर कहा था कि अगर यह साबित हो जाता है कि उस जगह राम मंदिर ही था तो यह जमीन हिंदुओं को दे दी जानी चाहिए. अब तो यह साबित हो चुका है कि वहां राम मंदिर ही था. साथ ही भरोसा जताया कि अयोध्या विवाद को लेकर जो मामला सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है, उसमें उन्हीं की जीत होगी. साथ ही उन्होंने कहा कि ये सही है कि हम मंदिर बनाने के लिए नया कानून ला सकते हैं, लेकिन इसकी जरूरत नहीं है. इसकी वजह ये है कि हम यह केस जीतने वाले हैं, इसका मुझे पूरा यकीन है. क्योंकि सुन्नी वक्फ बोर्ड के पास हमारे दावे को गलत साबित करने के लिए आधार नहीं है. इलाहाबाद हाईकोर्ट पहले ही मामले की काफी गहराई से जांच कर चुका है. इसलिए, सुन्नी वक्फ बोर्ड के पास अब इसका खंडन करने का कोई मौका नहीं बचा है. मैंने भी कहा है कि वहां पूजा करना हिंदुओं का मौलिक अधिकार है, मुस्लिमों के पास यह हक नहीं है. वो सिर्फ प्रॉपर्टी को लेकर उत्साहित हैं और यह सामान्य बात नहीं है.
राम मंदिर निर्माण के लिए मुसलमानों का समर्थन जुटाने के लिए RSS के वरिष्ट नेता इंद्रेश कुमार लम्बे समय से प्रयासरत हैं. पूर्व में इंद्रेश कुमार यह भी कह चुके हैं कि मुसलमान बड़ी तेज गति से इस बात के लिए आगे बढ़ रहे हैं कि वहां राम मंदिर बनना चाहिए. हमारी तैयारी के बजाय यह उनकी तैयारी है.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें


loading...


Loading...





Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *