राजनीतिक चंदे में भ्रष्टाचार मिटाने की दिशा में एक कदम चुनावी बॉन्ड के रूप में आया

 69 


राजनीतिक दलों को मिलने वाले चंदे की प्रक्रिया में पारदर्शिता सुनिश्चित करने की दृष्टि से सरकार ने एक हजार रुपये से एक करोड़ रुपये मूल्य का चुनावी बॉन्ड लाने की घोषणा की है. माना जा रहा है कि राजनीतिक चंदों में इससे एक सीमा तक पारदर्शिता आएगी.
लोकसभा में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने राजनीतिक दलों को चंदे के लिये एक हजार रुपये, दस हजार रुपये, एक लाख रुपये, दस लाख रुपये और एक करोड़ रुपये के मूल्य में चुनावी बॉन्ड की लाने के रूपरेखा की घोषणा की. जेटली ने सदन को बताया कि चुनावी बॉन्ड को अंतिम रूप दे दिया गया है जिससे देश में राजनीतिक दलों को मिलने वाले चंदे की पूरी प्रक्रिया में काफी हद तक पारदर्शिता आएगी.
data-ad-slot=”2847313642″

जेटली ने कहा कि राजनीतिक दलों को चंदे के लिए ब्याज मुक्त बॉन्ड भारतीय स्टेट बैंक से जनवरी, अप्रैल, जुलाई और अक्तूबर महीने में खरीदे जा सकते हैं. जेटली ने वित्त वर्ष 2017-18 के बजट के दौरान चुनावी बॉन्ड शुरू करने की घोषणा की थी. 18-19 का बजट प्रस्तुत करने के एक माह पूर्व उन्होंने राजनीति दलों को चंदे के लिए चुनावी बॉन्ड की व्यवस्था को अंतिम रूप दिए जाने की घोषणा की.
जेटली ने कहा कि राजनीति दलों को चंदा देने वाले लोग भारतीय स्टेट बैंक की कुछ निश्चित शाखाओं से चुनावी बॉन्ड खरीद सकेंगे, इन चुनावी बॉन्ड की मियाद पन्द्रह दिनों की होगी. इस मियाद के भीतर पंजीकृत राजनीतिक दलों को चंदे के तौर पर बॉन्ड देने होंगे.
चुनावी बॉन्ड पर देने वाले का नाम नहीं होगा, इसे केवल अधिकृत बैंक खाते के जरिए 15 दिन के भीतर भुनाया जा सकेगा. वित्त मंत्री ने कहा कि ये चुनावी बॉन्ड उन राजनीतिक दलों को दिए जा सकेंगे जिनको पिछले चुनाव में कम से कम 1% वोट मिला हो.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें


loading...


Loading...