राजद सुप्रीमो लालू यादव से होटल टेंडर घोटाला मामले में CBI ने सात घंटे पूछताछ की

 70 


पूर्व रेल मंत्री और राजद नेता लालू प्रसाद यादव से IRCTC होटल घोटाला मामले में CBI ने सात घंटे से अधिक पूछताछ की। होटल घोटाला मामले में CBI ने पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव और उनके पुत्र तेजस्वी को नोटिस जारी करते हुए तीन और चार अक्टूबर को पेश होने के लिए कहा था, लेकिन लालू यादव उस दिन CBI मुख्यालय नहीं पहुंचे थे।
सूत्रों के अनुसार बृहस्पतिवार को करीब 11 बजे लालू यादव अपनी पुत्री के साथ पहुंचे। उनकी पुत्री को मुख्यालय की लॉबी में ही बैठा लिया गया जबकि लालू यादव मामले की तफ्तीश कर रहे अधिकारियों के समक्ष उपस्थित हुए। होटल घोटाला मामले में उनके पुत्र तेजस्वी CBI मुख्यालय में शुक्रवार को पेश होंगे।
CBI का कहना है कि IRCTC होटल घोटाला मामले में पूर्व रेल मंत्री लालू यादव को पहले 11 सितम्बर को पेश होने के लिए नोटिस जारी किया गया था और अगले दिन उनके बेटे को। लेकिन उन्होंने अपने अधिवक्ता के माध्यम से प्रार्थना पत्र देकर कुछ दिनों की मोहलत मांगी थी। इसके बाद उन्हें तीन और चार अक्टूबर को पेश होना था। लेकिन इस बार उन्होंने 20 दिन का समय मांगा था। सीबीआई अधिकारियों ने उन्हें 20 दिन का समय नहीं दिया। वर्ष 2006 में लालू यादव रेल मंत्री थे तो उन्होंने बीएनआर रांची और पुरी स्थित रेलवे होटलों के रखरखाव का काम सूजाता होटल के मालिक विनय तथा विजय कोचर को सौंपा था। रिश्वत के तौर पर कोचर की कंपनी के माध्यम से तीन एकड़ बेनामी जमीन लेने का उनपर आरोप है।


CBI के अनुसार मई 2004 में जब लालू प्रसाद रेल मंत्री थे जो उन्होंने अपने पद का दुरुपयोग किया। उन्होंने पटना स्थित होटल चाणक्य के मालिक विनय कोचर ओर विजय कोचर के साथ मिल कर करोड़ों रुपये का भ्रष्टाचार किया। भ्रष्टाचार की साजिश में IRCTC के एमडी सहित अन्य लोग भी शामिल हैं। इस आधार पर CBI ने प्रारंभिक जांच का मामला दर्ज किया और तफ्तीश में पता चला कि करोड़ों रुपये का यह घोटाला वर्ष 2004 से 2014 के बीच किया गया है। तफ्तीश पूरी होने के बाद पांच जुलाई 2017 को प्राथमिकी दर्ज की गई।
प्राथमिकी में पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव और उनकी पत्नी के अलावा उनके पुत्र तेजस्वी प्रसाद यादव, सरला गुप्ता, विजय कोचर तथा उनका भाई विनय कोचर, पी के गोयल पूर्व एमडी IRCTC, तथा मैसर्स लारा प्रोजेक्ट्स उर्फ एलएलपी मैसर्स लारा प्रोजेक्ट्स प्रा.लि., मैसर्स डिलाईट मार्केटिंग कंपनी प्रा.लि. शामिल है। इनके अलावा अज्ञात लोग भी शामिल हैं। सभी आरोपियों को साजिश रच कर धोखाधड़ी और भ्रष्टाचार करने की धाराओं में शामिल किया गया है।
तफ्तीश में सामने आया है कि पूर्व रेल मंत्री ने अपने कार्यकाल के दौरान रांची और पुरी में बीएनआर होटलों के विकास, रखरखाव और संचालन के लिए टेंडर निकाले थे। बीएनआर होटल रेलवे के हेरिटेज होटल हैं जिन्हें IRCTC ने अपने अधीन कर लिया था।। दोनों होटलों का टेंडर मैसर्स सुजाता होटल प्रा.लि. को दिया गया था। सुजाता होटल प्रा.लि. के मालिक विजय कोचर और उनका भाई हैं। तफ्तीश में यह भी खुलासा हुआ कि विनय कोचर और हर्ष कोचर ने 25 फरवरी 2005 में पटना स्थित तीन एकड़ जमीन को दस सेलडीड के जरिये सरला गुप्ता की कंपनी डीएमसीएल को ट्रांसर्फर किया और बाद में पूर्व रेल मंत्री की पत्नी की कंपनी लारा प्रोजेक्ट्स को जमीन ट्रांसर्फर की गई। CBI के अतिरिक्त निदेशक का कहना है कि जिस सम्पति की कीमत सर्किल रेट के हिसाब से 32 करोड़ रुपये थी और मार्केट मूल्य 94 करोड़ रुपये था, उस जमीन को मात्र 65 लाख रुपये में बेचा गया।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *