मोहम्मद अली जिन्ना थे कायद-ए-आजम :मणिशंकर अय्यर

 89 



कर्नाटक विधानसभा चुनाव और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) में मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर को लेकर जारी विवाद के बीच मणिशंकर अय्यर ने जिन्ना को कायद-ए-आजम कहकर उनकी तारीफ की है. अय्यर द्वारा गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान मोदी को नीच कहने के बाद कांग्रेस ने उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया था.
पूर्व भारतीय कूटनयिक अय्यर UPA-1 सरकार में पैट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री तथा युवा मामलों और खेल मंत्रालय का जिम्मा संभाला था. पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी और सोनिया गांधी के अत्यधिक नजदीक रहे मणिशंकर अय्यर समय-समय पर विभिन्न विवादों को जन्म देते रहे हैं. अय्यर के पाकिस्तान और जिन्ना प्रेम ने एक बाद फिर कर्नाटक में मतदान के एक सप्ताह पूर्व एक नये विवाद को हवा दिया है. उन्होंने यह भी कहा कि वर्तमान की NDA सरकार ने हिंदुत्व की अवधारणा पेश की है, लेकिन इसका विरोध हो रहा है. उनको बताया गया है कि जिन्ना की तस्वीर को उनके (NDA) गुंडों ने AMU से हटवा दिया है.
मणिशंकर अय्यर लाहौर यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित ‘थ्रेट टू सिक्युरिटी इन द 21th सेंचुरी; फाइंडिंग ए ग्लोबल वे फॉरवर्ड’ इंटरनेशनल कॉफ्रेंस में भाग लेने के लिए लाहौर (पाकिस्तान) पहुँचे हैं. अय्यर कॉफ्रेंस में “India, Pakistan; Seeking through Truth, Reconciliation and Peace” शीर्षक वाले सत्र के मुख्य वक्ता हैं.
अय्यर के इस बयान के बाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कांग्रेस पर करारा हमला बोलते हुए ट्वीट किया- “कांग्रेस और पाकिस्तान के बीच हैरान करने वाली टेलीपैथी है. कल पाकिस्तान सरकार ने टीपू सुल्तान को याद किया, जिसकी जयंती को कांग्रेस धूमधाम से मनाती है और आज मणिशंकर अय्यर ने जिन्ना की तारीफ की.” गुजरात चुनाव के दौरान BJP को हराने के लिए कांग्रेस ने शीर्ष पाकिस्तानी अधिकारियों के साथ डिनर मीटिंग की थी और अब टीपू सुल्तान और जिन्ना को लेकर एक-दूसरे का प्रेम सामने आया है. मैं कांग्रेस से अपील करता हूं कि हमारी घरेलू राजनीति में विदेशी राष्ट्रों को शामिल न करे.


मणिशंकर अय्यर इसके पूर्व भारत-पाकिस्तान के रिश्तों में बातचीत की पहल को लेकर भी पाकिस्तान की तारीफ कर चुके हैं. तब कराची में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे अय्यर ने भारत और पाकिस्तान के बीच मुद्दों के समाधान के लिए निर्बाध बातचीत की पैरवी की थी. जब उनके बयान को लेकर भारत में विवाद हुआ, तो उन्होंने कहा कि मुझे भारत से जितनी नफरत मिलती है, पाकिस्तान से उतना ही प्यार मिलता है. मुझे यहां मजा आता है. यहां लोग मेरे लिए तालियां बजाते हैं, क्योंकि मैं शांति की बातें करता हूं.
समाजवादी पार्टी के सांसद नरेश अग्रवाल ने अय्यर द्वारा पाकिस्तानी सेना द्वारा कुछ ही समय पूर्व की गई 5 सैनिकों की हत्या पर चर्चा करने से इंकार करते हुए इसके स्थान पर बढ़ रही गैस कीमतों पर चर्चा करने का सुझाव दिए जाने पर अगस्त 2013 में राज्यसभा में उनपर पाकिस्तानी जासूस होने का आरोप तक लगा दिया था.
फ्रांस द्वारा हिजाब पर प्रतिबंध लगाने के जवाब में नवम्बर, 2015 के पैरिस हमलों को भी अय्यर ने उचित ठहराया था. उन्होंने मुसलमानों की मौत की प्रतिक्रिया स्वरूप चार्ली हेबदो गोलीकांड को भी सही बताया था और उनके बयानों को उनकी पार्टी ने ही खारिज कर दिया था.
इस वर्ष के पूर्वाद्र्ध में 5 राज्यों के चुनाव परिणामों के बाद कांग्रेस में उठ रही बदलाव की मांग के बीच उन्होंने सुझाव दिया था कि पार्टी को 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुकाबले के लिए राष्ट्रीय स्तर पर महागठबंधन बनाना चाहिए और यदि जरूरी हो तो राहुल को इस महागठबंधन के नेतृत्व का दावा छोड़ देना चाहिए, जैसा कि 2015 में कांग्रेस ने बिहार में किया और उत्तर प्रदेश में भी समाजवादी पार्टी की जूनियर थी. ऐसा कहकर उन्होंने राहुल गांधी की नेतृत्व क्षमता पर ही सवाल खड़ा कर दिया था.
यही नहीं मणिशंकर अय्यर ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी के संबंध में कहा था ‘‘मैं महसूस करता हूं कि केवल दो लोगों में से ही कोई कांग्रेस का अगला अध्यक्ष बन सकता है, जिनमें से एक मां और दूसरा बेटा है. जहां इस प्रकार के बयान देकर मणिशंकर अय्यर ने कांग्रेस में रहते हुए राहुल गांधी के प्रति अपनी नापसंदगी जाहिर की है वहीं अन्य विषयों पर भी आपत्तिजनक बयान देकर उन्होंने विवाद पैदा करते रहे हैं.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *