मोदी सरकार ने 14 फसलों का MSP बढ़ाकर किसानों को दिया तोहफा

 68 



केंद्र की मोदी सरकार ने धान सहित कुल 14 खरीफ फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) बढ़ा दिया. सरकार ने यह निर्णय आम चुनाव होने के एक साल पूर्व लिया है.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल की आर्थिक मामलों से संबंधित समिति ने आज14 खरीफ फसलों के MSP के प्रस्तावों को स्वीकृत किया. इस क्रम में धान साधारण का न्यूनतम समर्थन मूल्य 200 रुपये बढ़ाकर 1,750 रुपये प्रति क्विंटल किया गया है. इसी तरह कपास (मध्यम आकार का रेशा) का MSP 4,020 रुपये प्रति क्विंटल से बढ़ाकर 5,150 रुपये प्रति क्विंटल और कपास (लंबा रेशा) का MSP 4,320 रुपये प्रति क्विंटल से बढ़ाकर 5,450 रुपये प्रति क्विंटल पर कर दिया गया. अरहर का MSP 5,450 रुपये प्रति क्विंटल से बढ़ाकर 5,675 रुपये प्रति क्विंटल, मूंग का 5,575 रुपये प्रति क्विंटल से बढ़ाकर 6,975 रुपये प्रति क्विंटल और उड़द का 5,400 रुपये प्रति क्विंटल से बढ़ाकर 5,600 रुपये प्रति क्विंटल किया गया है.


भाजपा ने 2014 में अपने चुनावी वादे में किसानों को उनकी लागत का डेढ़ गुना मूल्य देने की बात की थी. सरकार ने इसे पूरा करने के लिए इस साल पहली फरवरी को पेश अपने आखरी पूर्ण बजट में अपने वायदे को पूरा करने की घोषणा भी की थी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले हफ्ते गन्ना किसानों से बात करते हुए भी यह वादा किया था कि खरीफ सीजन के लिए फसलों के इनपुट कॉस्ट के 150 फीसदी तक MSP करने की योजना को लागू किया जाएगा. इससे पहले भी मोदी सरकार की तरफ से गन्ना किसानों के लिए राहत दी गई थी.
वर्ष 2016-17 की खरीद के आंकड़ों के हिसाब से धान का MSP बढ़ाने से खाद्य छूट पर 11 हजार करोड़ रुपये का बोझ आएगा. धान खरीफ सीजन की मुख्य फसल है. वर्ष 2017-18 में भारत में अनाज उत्पादन 27.951 करोड़ टन होने का अनुमान है. मोदी सरकार का ये फैसला सीधे तौर पर हरियाणा, उत्तर प्रदेश, पंजाब, महाराष्ट्र, गुजरात समेत कई प्रदेशों में सीधा असर दिखाएगा, इन राज्यों में किसानों की संख्या अधिक है और लोकसभा सीटों की भी.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *