भारत से फरार कारोबारी विजय माल्या रविवार को ओवल (लंदन) में इंडिया-साउथ अफ्रीका का मैच देखने पहुंचे तो माल्या को देखकर स्टेडियम के बाहर जमा लोगों ने चोर-चोर के नारे लगाने शुरू कर दिए।
विजय माल्या को ओवल मैदान के बाहर देखते ही उनकी हूटिंग शुरू कर हो गयी। क्रिकेट फैन ने कहा कि- वो देखो चोर जा रहा है। इसके बाद वहां मौजूद कई फैन्स ने चोर-चोर के नारे लगाने शुरू कर दिए। इससे पहले भी माल्या एजबेस्टन में इंडिया और पाकिस्तान का मैच देखते हुए नजर आए थे।
माल्या ब्लैक ट्राउजर और स्काईब्लू ब्लेजर पहनकर ओवल स्टेडियम पहुंचे थे। उन्हें देखते ही फैन्स ने हूटिंग शुरू कर दी। कुछ लोगों ने इस वाकये का वीडियो बनाया। इस दौरान स्टेडियम के गेट पर सिक्युरिटी गार्ड्स ने माल्या की चेकिंग की और फिर वो अंदर चले गए। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

इससे पहले महाराष्ट्र के एक NCP विधायक जितेंद्र अव्हाड़ ने इंडिया-पाकिस्तान का मैच देख रहे माल्या की तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए ट्वीट किया था कि अगर कोई माल्या को ढूंढ रहा है तो वो एजबेस्टन में इंडिया-पाक का मैच में देख रहे हैं। इसके बाद माल्या ने ट्वीट कर कहा था कि- भारत-पाक मैच के दौरान मेरी मौजूदगी पर मीडिया सनसनी फैला रहा है। मैं उस हर मैच में जाऊंगा, जिसमें टीम इंडिया खेलेगी।
विजय माल्या वहां विराट कोहली के एक चैरिटी प्रोग्राम में भी बगैर न्योता के पहुँच गये थे। माल्या की मौजूदगी से कोहली और टीम के दूसरे मेंबर्स काफी असहज दिखे थे। विजय माल्या की मौजूदगी ने टीम इंडिया के क्रिकेटर्स को पसोपेश में डाल दिया। सभी ने माल्या से दूरी बनाए रखी और किसी भी तरह के विवाद से बचने के लिए सभी प्रोग्राम से जल्द ही लौट गए। इस प्रोग्राम को ह्यूमन ट्रैफिकिंग के खिलाफ काम कर रहे एक संगठन ने ऑर्गनाइज किया था।
इसके पूर्व 19 अप्रैल को विजय माल्या को ब्रिटेन में स्कॉटलैंड यार्ड ने अरेस्ट कया था, लेकिन गिरफ्तारी के तीन घंटे बाद ही माल्या को 4.5 करोड़ रुपए के बॉन्ड और पासपोर्ट जमा करने की शर्त पर वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट ने जमानत दे दी थी। तब इंडियन फॉरेन मिनिस्ट्री ने एक बयान में कहा था कि माल्या को लेकर ब्रिटेन में लीगल प्रॉसेस जारी है। माल्या के प्रत्यर्पण के लिए भारत सरकार ने अपील की थी। इसलिए उसे गिरफ्तार किया गया। दोनों देशों की सरकारें भी इस मसले पर संपर्क में हैं।

गिरफ्तारी के बाद माल्या ने जांच एजेंसियों को को-ऑपरेट करने और बैंकों के साथ 9 हजार करोड़ रुपए के लोन को एक बार में सेटलमेंट करने के लिए 6868 करोड़ रुपए देने की बात भी कही थी। माल्या ने कहा था कि सबको मेरी तरफ से बैंकों को दिए गये सेटलमेंट ऑफर से जुड़ी शर्त और कर्नाटक हाईकोर्ट की कानूनी कार्यवाही ऑब्जर्व करने की जरूरत है।
किंगफिशर एयरलाइन्स पर 31 जनवरी 2014 तक बैंकों का 6,963 करोड़ रुपए बकाया था। इस कर्ज पर इंटरेस्ट के बाद माल्या की टोटल लायबिलिटी 9,000 करोड़ रुपए से ज्यादा हो चुकी है। डेट रिकवरी ट्रिब्‍यूनल ने माल्या और उनकी कंपनियों UBHL, किंगफिशर फिनवेस्ट और किंगफिशर एयरलाइन्स से 11.5% प्रति साल की ब्याज दर से वसूली की प्रॉसेस शुरू करने की इजाजत दी थी।
माल्या 2 मार्च 2016 से ही लंदन में रह रहे हैं। एन्फोर्समेंट डायरेक्टोरेट (ईडी) और सीबीआई को माल्या की तलाश थी। प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA) से जुड़े एक मामले में मुंबई की स्पेशल कोर्ट माल्या को भगोड़ा घोषित कर चुकी थी। माल्या का पासपोर्ट भी रद्द किया गया था। माल्या को गिरफ्तार करने के लिए ईडी ने कोर्ट में अर्जी लगाई थी।

ताज़ा अपडेट पाने के लिए हमारे पेज को लाइक करें


loading…

Loading…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *