मुहर्रम को ले निकला जुलुस ताजिया को देखने उमड़ा जन शैलाब, तिरंगा भी हवा में लहराया

 434 

– इस्लामिक झंडा के अलावे तिरंगा भी हवा में लहराया
– हिन्दू मुस्लिम एक साथ टंटा का खेल खेलकर लोगों का दिल जीता

टंडवा/औरंगाबाद: मुहर्रम की दस तारीख को शेखपुरा, खजुरी टीका, सरैया, बसडीहा, जनकीपुर, घूरा मनसारा, कुण्डवा तथा हरदासपुर का जुलुस टंडवा में मिलता है. बाज़ार में अनेको प्रकार का खेल देखाकर लोंगो को दिल जितने का काम किया गया। इस मौके पर मजलिसों का सिलसिला तेज हो गया है. घरों और इमामबाड़ों में भी मर्दों और औरतों की भी मजलिसें देखने को मिला। इन मजलिसों में खतीब पैगंबर-ए-इसलाम हजरत मुहम्मद के नवासे हजरत इमाम हुसैन समेत 72 शहीदों के वाक्यात बयान कर रहे थे। इस दौरान जुलूसों में अंजुमनों ने नौहाख्वानी के साथ मातम भी किया। इस बार पुलिस के ओर से कुछ शर्ते रखा गया। इसलिए मुहर्रम में तलवार और डी जे को शामिल नही किया गया है।

जिससे थोडा नराजगी भी देखी गई। सब कुछ देखते हुये कमिट्टी की हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी शांति के साथ मनाया जाये इसका अपील बार बार किया जा रहा है. जबकि सन् 2015-2017 तक मुहर्रम और दुर्गा पूजा एक साथ मनाया गया था दोनों समुदाय के लोंगो ने शांति के साथ मिल कर मनाया था कंही से कोई घटना कि ख़बर नही मिला था। फिर भी जोश में होश न खोदे इस बात को ख़्याल रखते हुये शांति के साथ मनाने की अपील किया। शांति को कायम रखने में टंडवा थानाध्यक्ष मो साज़िद हुसैन का अहम भूमिका रहा।
टंडवा से मो. फखरुद्दीन की रिपोर्ट

loading…


Loading…


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *