मीडिया संयम बरते, PM पर हमने टिप्पणी नहीं की : हाई कोर्ट

 74 


पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के तीन जजों की पीठ ने कहा कि हमने 26 अगस्त को प्रधानमंत्री पर कोई टिप्पणी नहीं की थी। इसके बाद भी मीडिया ने अपनी रिपोर्टिंग में कई बार इसका जिक्र किया और हाईकोर्ट की टिप्पणी को गलत ढंग से पेश किया।
रेप केस में गुरमीत राम रहीम को सजा होने के बाद भड़की हिंसा के बाद पुलिस ने हरियाणा स्थित डेरों में सघन तलाशी अभियान चलाया और कई डेरों को सील किया। पुलिस की इस कार्रवाई के खिलाफ कुछ वकीलों ने पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की थी। सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने इस मामले की रिपोर्टिंग को लेकर मीडिया पर सवाल खड़े किए।
जनहित याचिका पर सुनवाई शुरू होते ही तीन जजों की पीठ ने कहा कि कोर्ट ने 26 अगस्त को प्रधानमंत्री पर कोई टिप्पणी नहीं की थी, लेकिन इसके बाद भी मीडिया की रिपोर्टिंग में कई बार इस बात का जिक्र हुआ। जिस संदर्भ में यह बात कही गई थी, उसमें ऐसा कुछ नहीं था। मीडिया ने हाईकोर्ट की टिप्पणी को गलत ढंग से पेश किया है।


सुनवाई के दौरान जब डेरे के वकील ने कहा कि पुलिस अकारण डेरों को सील कर रही है तो कोर्ट ने कहा कि हमने किसी डेरे को सील करने के लिए नहीं कहा, केवल जांच के लिए कहा है। साथ ही यह सुनिश्चित करने को कहा है कि डेरा में हथियारों जैसी कोई खतरनाक चीज न हो।
पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट ने तोड़फोड़ व आगजनी पर पुलिस व सुरक्षा बलों की कार्रवाई पर संतुष्टि जताते हुए कहा कि युद्ध जैसी स्थिति बन गई थी। ऐसी स्थिति को युद्ध की तरह ही निपटा जाना था, पुलिस और सुरक्षा बलों ने जिस सख्ती के साथ दंगाइयों के खिलाफ कार्रवाई की है, उससे लोगों में एक संदेश गया है की दोबारा अगर किसी ने इस तरह की हरकत की तो उनके खिलाफ भी ऐसी ही सख्त कार्रवाई की जाएगी। हाई कोर्ट ने कहा कि पुलिस कभी कमजोर और पीडि़त नजर नहीं आनी चाहिए। पुलिस को सख्त होना बेहद जरूरी है।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading…


Loading…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *