महिला वकील देश में पहली बार सीधे सुप्रीम कोर्ट में बनेगी जज

 55 


उत्तराखंड के हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस के एम जोसफ और सुप्रीम कोर्ट की सीनियर वकील इंदू मल्होत्रा को सीधे सुप्रीम कोर्ट में जज नियुक्त करने की सिफारिश सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम ने की है.
कॉलेजियन द्वारा भेजे गये प्रस्ताव को अगर सरकार अपनी मंजूरी दे देती है तो इंदू मल्होत्रा देश की पहली महिला वकील होंगी जो सर्वोच्च न्यायालय में सीधे जज बनेंगी. साथ ही वो आजादी के बाद सुप्रीम कोर्ट में जज बनने वाली देश की सातवीं महिला होंगी. फिलहाल जस्टिस आर. भानुमति सुप्रीम कोर्ट की इकलौती महिला जज हैं. जस्टिस एम. फातिमा बीवी 1989 में सुप्रीम कोर्ट की पहली महिला जज बनी थीं. उनके बाद जस्टिस सुजाता वी. मनोहर, जस्टिस रुमा पाल, जस्टिस ज्ञान सुधा मिश्रा और जस्टिस रंजना प्रकाश देसाई सुप्रीम कोर्ट की जज बनीं थीं.
सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने अन्य जजों के साथ मिलकर दोनों नाम तय किया. जस्टिस के एम जोसफ ने ही 21 अप्रैल 2016 को उतराखंड में हरीश रावत की सरकार को हटाकर राष्ट्रपति शासन लगाने के फैसले को रद्द किया था. सुप्रीम कोर्ट में 31 जज के पदों में फिलहाल 25 जज ही हैं, अभी 6 पद खाली हैं.
सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम ने राजस्थान HC के जस्टिस अजय रस्तोगी को त्रिपुरा हाईकोर्ट भेजने की सिफारिश की है. कॉलेजियम ने कोलकाता HC के एक्टिंग चीफ जस्टिस जस्टिस जे भट्टाचार्य को दिल्ली हाईकोर्ट का चीफ जस्टिस बनाने की सिफारिश की है. दिल्ली हाईकोर्ट में फिलहाल एक्टिंग चीफ जस्टिस हैं.
गुजरात हाईकोर्ट की जज जस्टिस अभिलाषा कुमारी (वीरभद्र सिंह की बेटी) को मणिपुर हाईकोर्ट की चीफ जस्टिस बनाने तथा केरल हाईकोर्ट के वरिष्ठ जज जस्टिस ए डोमिनिक को केरल हाईकोर्ट का चीफ जस्टिस बनाने की सिफारिश की गयी है.
पंजाब और हरियाणा HC के वरिष्ठ जज जस्टिस सूर्यकांत को हिमाचल प्रदेश HC का चीफ जस्टिस तथा छत्तीसगढ़ के चीफ जस्टिस टीबी राधाकृष्णन का तबादला आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस के रूप में करने की सिफारिश सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने कानून मंत्रालय से की है.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें


loading...


Loading...