महागठबंधन की उठापटक के बीच अमित शाह के इस बयान के मायने !

 80 


भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने आज कहा कि बिहार में नीतीश कुमार जबतक BJP के साथ सरकार चला रहे थे,वहां विकास हो रहा था, देश-दुनिया के अर्थशास्त्री मानते हैं कि उस दौर में बिहार बिमारू राज्य से बाहर होने की कगार पर पहुंच गया था.
बिहार में सत्ताधारी RJD और JDU की गठबंधन सरकार में जारी अंर्तकलह के बीच BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के एक बयान से राजनीति सरगरमी तेज हो सकती है. उन्होंने JDU- BJP गठबंधन सरकार के दिनों को याद करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उनके नेतृत्व की तारीफ करते हुए कहा कि 1980 के दशक में अर्थशास्त्रियों ने ‘बीमारू स्टेट’ शब्द का प्रयोग किया था, जिन राज्यों की प्रशासनिक व्यवस्था चरमरा गई थी, जिसके चलते वहां की अर्थव्यवस्था पटरी से उतर गई थी, ऐसे ही राज्यों को बीमारू राज्य कहा गया. बीमारू राज्य में ‘B’ से बिहार, ‘M’ से मध्य प्रदेश, ‘R’ से राजस्थान, ‘U’ से उत्तर प्रदेश. उन्होंने आगे कहा कि बिहार में नीतीश कुमार जबतक BJP के साथ सरकार चला रही थी, वहां विकास हो रहा था. देश-दुनिया के अर्थशास्त्री मानते हैं कि उस दौर में बिहार बिमारू राज्य से बाहर होने की कगार पर पहुंच गया था.


भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में 13 साल से BJP की सरकार है, ये दोनों राज्य विकसित राज्य बनने की कगार पर हैं, राजस्थान भी बीमारू राज्य से बाहर है. UP में हमें अभी जनादेश मिला है, पांच साल बाद इस राज्य की भी हालत बदल जाएगी.
नीतीश कुमार को लेकर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के इस बयान को कई मायने में अहम माना जा सकता है. हाल ही में लालू प्रसाद यादव के बेटे और बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव पर भ्रष्टाचार का केस दर्ज होने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनसे स्पष्टीकरण मांगा है. जदयू और राजद नेताओं के बीच पिछले कुछ दिनों से जुबानी जंग जारी है. जदयू और नीतीश कुमार लगातार तेजस्वी यादव पर मंत्रिमंडल से बाहर होने का दबाव बना रहे हैं. हालांकि राजद प्रमुख लालू यादव ने तेजस्वी के इस्तीफे से साफ मना कर दिया है.
इसी राजनीतिक गहमागहमी के बीच बिहार भाजपा के अध्यक्ष नित्यानंद राय ने कहा था कि अगर RJD नीतीश कुमार का साथ छोड़ती है तो BJP बाहर से समर्थन कर सरकार गिरने नहीं देगी. अब BJP अध्यक्ष अमित शाह ने नीतीश कुमार की तारीफ की है. नाजुक मोड़ से गुजर रहे जदयू-राजद और कांग्रेस अपने महागठबंधन को बचाने की कोशिशों में लगे हैं, वहीं अमित शाह का ताजा बयान लालू प्रसाद यादव एवं महागठबंधन की चिंता बढ़ा सकती है.
अमित शाह दिल्ली में जनसंघ के संस्थापक डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी पर लिखी किताब “श्यामा प्रसाद मुखर्जी- हिज विजन ऑफ एजुकेशन” का विमोचन करने पहुंचे थे, यहीं उन्होंने JDU- BJP सरकार के कार्यकाल की तारीफ की. कार्यक्रम में उन्होंने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि इसने देश भर में परिवारवाद, जातिवाद और तुष्टिकरण की राजनीति की, जिसका खामियाजा देश के लोगों को भुगतना पड़ा. जिन राज्यों में BJP की सरकार बनी वहाँ परिवारवाद, जातिवाद और तुष्टिकरण का खात्मा हो गया. हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading…


Loading…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *