प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने 50वें रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में यह बताया कि आखिर क्यों वह ‘मन की बात’ हर महीने करते हैं. उन्होंने समाज के सभी वर्गों की बात करते हुए कहा कि मोदी आएगा और चला जाएगा, लेकिन यह देश अटल रहेगा.
PM ने कहा कि इस कार्यक्रम का बहुत से लोग मजाक भी बनाते हैं, लेकिन देश का मन मेरा मन है. लोगों का कहना है कि अक्सर लोग latest technology, Social Media और Mobile Apps के साथ लोगों को जोड़ते हैं, लेकिन आपने लोगों के साथ जुड़ने के लिये रेडियो को क्यों चुना? ये जिज्ञासा बहुत स्वाभाविक है कि आज के युग में, जबकि रेडियो को करीब- करीब भुला दिया गया था, उस समय मोदी रेडियो लेकर क्यों आया? Communication की reach और उसकी गहराई के मामले में शायद रेडियो की बराबरी कोई नहीं कर सकता और जब मैं प्रधानमंत्री बना तो सबसे ताकतवर माध्यम की तरफ़ मेरा ध्यान जाना बहुत स्वाभाविक था.
PM ने कहा कि हाल ही में आकाशवाणी ने ‘मन की बात’ पर survey भी कराया. जिन लोगों के बीच survey किया गया है, उनमें से औसतन 70% नियमित रूप से ‘मन की बात’ सुनने वाले लोग हैं, अधिकतर लोगों को लगता है कि ‘मन की बात’ का सबसे बड़ा योगदान ये है कि इसने समाज में positivity की volunteerism यानी स्वेच्छा से कुछ करने की भावना बढ़ी है.
PM ने कहा कि मुझे यह देखकर के खुशी हुई कि ‘मन की बात’ के कारण रेडियो, और अधिक लोकप्रिय हो रहा है. कुछ युवा मित्रों ने ‘मन की बात’ में आए सब विषयों पर एक study की. उन्होंने सारे episode का lexical analysis किया और उन्होंने अध्ययन किया कि कौन से शब्द कितनी बार बोले गए ? कौन से शब्द हैं जो बार-बार बोले गए ? उनकी एक finding यही है कि यह कार्यक्रम apolitical रहा.
PM ने कहा कि जब ‘मन की बात’ शुरू किया था तभी मैंने तय किया था कि न इसमें politics न हो, न इसमें सरकार की वाह-वाही हो, न इसमें कहीं मोदी हो और मेरे इस संकल्प को निभाने के लिये सबसे बड़ा संबल, सबसे बड़ी प्रेरणा आप सबसे मिली. मन की बात’ एक aspirational India, महत्वाकांक्षी भारत की बात है. भारत का मूल-प्राण राजनीति नहीं है, भारत का मूल-प्राण राजशक्ति भी नहीं है. भारत का मूल-प्राण समाजनीति और समाज-शक्ति है. समाज जीवन के हजारों पहलू में एक राजनीति है. राजनीति सबकुछ हो जाए, यह स्वस्थ समाज के लिए अच्छी व्यवस्था नहीं है.
PM ने कहा कि कब किसी सरकार की इतनी ताक़त होगी कि #selfiewithdaughter की मुहिम हरियाणा के एक छोटे से गाँव से शुरू होकर पूरे देश में ही नहीं, विदेशों में भी फैल जाए. समाज का हर वर्ग, celebrities, सब जुड़ जाएं और समाज में सोच-परिवर्तन की एक नयी modern language में, जिसे आज की पीढ़ी समझती हो ऐसी अलख जगा जाये. भारत जैसे देश के उज्ज्वल भविष्य के लिए जन-सामान्य की प्रतिभाएं पुरुषार्थ को उचित स्थान मिले, यह हम सबका एक सामूहिक दायित्व है और ‘मन की बात’ इस दिशा में एक नम्र और छोटा सा प्रयास है. ‘मन की बात’ के 50 episode की सबसे बड़ी सिद्धि यही है कि आप प्रधानमंत्री से नहीं, अपने एक निकट साथी से सवाल पूछते हैं, बस यही तो लोकतंत्र है.


PM मोदी ने कहा कि स्वच्छता, सड़क सुरक्षा, drugs free India, selfie with daughter जैसे कई विषय हैं जिन्हें media ने innovative तरीके से एक अभियान का रूप देकर आगे बढ़ाने का काम किया. T.V. channels ने इसको most watched radio programme बना दिया. मैं media का हृदय से अभिनन्दन करता हूँ, आपके सहयोग के बिना ‘मन की बात’ की यह यात्रा अधूरी ही रहती. कभी-कभी हमारे पूर्वाग्रह ही संवाद के लिए सबसे बड़ा संकट बन जाते हैं. स्वीकार-अस्वीकार और प्रतिक्रियाओं की बजाय किसी की बात को समझना मेरी प्राथमिकता रहती है.
PM ने कहा कि आज के युवाओं की यही खूबी है कि वो ऐसा कुछ भी नहीं करेंगे जिस पर स्वयं उन्हें विश्वास नहीं हो और जब वो किसी चीज़ पर विश्वास करते हैं तो फिर उसके लिए सब कुछ छोड़छाड़ कर उसके पीछे लग जाते हैं. अधिकतर परिवारों में teenagers से बातचीत का दायरा बड़ा सीमित होता है. अधिकतर समय पढ़ाई की बातें या फिर आदतों और फिर lifestyle को लेकर ‘ऐसा कर- ऐसा मत कर’ बिना किसी अपेक्षा के खुले मन से बातें, धीरे-धीरे परिवार में बहुत कम होती जा रही है और यह चिंता का विषय है. अलग-अलग कार्यक्रमों या फिर Social Media के माध्यम से युवाओं के साथ लगातार बातचीत करने का मेरा प्रयास रहता है साथ ही मैं युवाओं के प्रयासों को, उनकी बातों को, ज्यादा से ज्यादा साझा करने का प्रयास करता हूँ. मेरा मानना है कि युवाओं के पास बर्बाद करने के लिए समय नहीं है, वे चीज़ों को तेज़ी से करना चाहते. यही वो चीज़ है जो आज के नौजवानों को अधिक innovative बनने में मदद करती है.
PM ने कहा कि हमें लगता है आज के युवा बहुत महत्वाकांक्षी हैं और बहुत बड़ी-बड़ी चीज़ें सोचते हैं. अच्छा है, बड़े सपने देखें और बड़ी सफलताओं को हासिल करें, यही तो #NewIndia है. युवा multitasking में पारंगत हैं, अगर हम आस-पास नज़र दौड़ायें तो वो चाहे Social Entrepreneurship हो, Start-Ups हो, Sports हो या फिर अन्य क्षेत्र हो, समाज में बड़ा बदलाव लाने वाले युवा ही हैं. अगर हम युवाओं के विचारों को धरातल पर उतार दें और उन्हें अभिव्यक्त करने के लिए खुला वातावरण दें तो वे देश में सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं.
PM ने कहा कि कल ‘संविधान दिवस’ है. उन महान विभूतियों को याद करने का दिन जिन्होंने हमारा संविधान बनाया. 26 नवम्बर, 1949 को हमारे संविधान को अपनाया गया. कल्पना कीजिये 2 वर्ष 11 महीने और 17 दिन में संविधान draft के इस ऐतिहासिक कार्य को पूरा कर उन महान विभूतियों ने हमें इतना व्यापक और विस्तृत संविधान दिया. उन्होंने जिस असाधारण गति से संविधान का निर्माण किया वो आज भी time management और productivity का एक उदाहरण है. संविधान सभा देश की महान प्रतिभाओं का संगम थी, उनमें से हर कोई अपने देश को एक ऐसा संविधान देने के लिए प्रतिबद्ध था जिससे भारत के लोग सशक्त हों, ग़रीब से ग़रीब व्यक्ति भी समर्थ बने. हमारे संविधान में खास बात यही है कि अधिकार और कर्तव्य (Rights and Duties) के बारे में इसमें विस्तार से वर्णन है.
PM ने कहा कि इन्हीं दोनों का तालमेल देश को आगे ले जाएगा. अगर हम दूसरों के अधिकार का सम्मान करेंगे तो हमारे अधिकारों की रक्षा अपने आप हो जायेगी. अगर हम संविधान में दिए अपने कर्तव्यों का पालन करेंगे तो भी हमारे अधिकारों की रक्षा अपने आप हो जायेगी. वर्ष 2020 में एक गणतंत्र के रूप में हम 70 साल पूरे करेंगे और 2022 में हमारी आज़ादी के 75 वर्ष पूरे हो जायेंगे. हम सभी अपने संविधान के मूल्यों को आगे बढ़ाएं और अपने देश में Peace, Progression, Prosperity यानी शांति, उन्नति और समृद्धि को सुनिश्चित करें.
PM ने कहा कि संविधान सभा के केंद्र में रहे महापुरुष पूजनीय डॉ. बाबा साहेब अम्बेडकर जिनका महा-परिनिर्वाण दिवस 6 दिसम्बर को है, उस महापुरुष के योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता क्योंकि वो संविधान सभा के केंद्र में थे. दो दिन पहले 23 नवम्बर को हम सबने श्री गुरु नानक देव जी की जयंती मनाई है और अगले वर्ष हम उनका 550वां प्रकाश-पर्व भव्य रूप से मनाने जा रहे हैं. इसका रंग देश ही नहीं, दुनिया-भर में बिखरेगा. भारत सरकार ने एक बड़ा महत्वपूर्ण निर्णय किया है “करतारपुर corridor” बनाने का ताकि हमारे देश के यात्री आसानी से करतारपुर पाकिस्तान में गुरु नानक देव जी के उस पवित्र स्थल पर दर्शन कर सकें.



loading…

Loading…






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *