भारत प्रक्षेत्र का राष्ट्रमंडल संसदीय सम्मेलन पटना में

 109 


बिहार में पहली बार हो रहे राष्ट्रमंडल संसदीय संघ (CPA) के भारतीय प्रक्षेत्र सम्मेलन में सतत विकास के लक्ष्य में जनप्रतिनिधियों की भूमिका और विधायिका-न्यायपालिका के संबंधों पर व्यापक मंथन होगा।
विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने इस सन्दर्भ में बताया कि भारत प्रक्षेत्र के इस छठे सम्मेलन में CPA के अन्य आठ प्रक्षेत्रों के प्रतिनिधि भी शामिल होंगे। 16 फरवरी से 19 फरवरी तक चलने वाले इस सम्मेलन में CPA की अध्यक्ष कैमरून की चेयरपर्सन एमिलिया लिफाका और CPA के सेकेट्री जेनरल अकबर खान भी भाग लेंगे।
श्री चौधरी ने कहा कि सम्मेलन का उद्घाटन 17 फरवरी को ज्ञान भवन में होगा। “अतिथि देवो भवः” के तर्ज़ पर बिहार आतिथ्य के लिए पूरी तरह तैयार है। इस सम्मेलन में देश-दुनिया के लोगों को न केवल बिहार को करीब से देखने-जानने का अवसर मिलेगा बल्कि वे एक-दूसरे से बेहतर इंटरेक्शन कर सकेंगे। निकायों को दूसरे निकायों के बेहतर कार्यों को अपनाने का भी अवसर मिलेगा। अच्छी चीजों को जानने-सीखने के भी अवसर रहेंगे। यह कार्यक्रम बिहार के लिए गौरव की बात है। साथ ही हमलोगों को विश्वास है कि देश-दुनिया से जितने भी प्रतिनिधि सम्मेलन में आएंगे, वे बिहार के संबंध में सुखद स्मृति लेकर ही जाएंगे।
बिहार विधानसभा भवन में 17 व 18 फरवरी को विमर्श- व्याख्यान के कई सत्र होंगे। सम्मेलन के लिए बिहार विधानमंडल परिसर को पूरी तरह सजाया गया है। सजावट से पुरे विधानसभा को एक नया रुप प्रदान किया गया है। नयी साज-सज्जा के साथ-साथ बड़े पैमाने पर बागवानी भी की गयी है। विधानसभा परिसर में नये वाहन स्टैंड के अलावा लैंड स्लाइड भी बनाया गया है। विधानसभा और सचिवालय के नए भवन के बीच भी घास बिछाए गए हैं। परिसर के अंदर सड़कें तक नयी बनायी गयी हैं। पुरे विधानसभा परिसर में बिजली की सजावट की गयी है।
श्री चौधरी ने बताया कि लोकसभा के अधिकारियों का एक दल पटना पहुंच चूका है, जिसने विधानसभा पहुंचकर तैयारियों का जायजा लेना और आवश्यक निर्देश देना प्रारम्भ कर दिया है, अधिकारियों कादूसरा दल गुरुवार को पहुंच रहा है। देश-दुनिया के प्रतिनिधि भी गुरुवार से पटना पहुंचने शुरू हो जायेंगे। उनको ठहराने के लिए भी शानदार व्यवस्था की गयी है।


CPA भारत प्रक्षेत्र के एक्जीक्यूटिव कमेटी की बैठक 16 फरवरी को होटल मौर्या में होनी है। 17 फरवरी को ज्ञान भवन में होने वाले उद्घाटन समारोह की अध्यक्षता करते हुए उद्घाटन भाषण लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन देंगी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मुख्य अतिथि के रुप में उद्घाटन समारोह को संबोधित करेंगे। CPA एक्जीक्यूटिव कमेटी की अध्यक्ष एमिलिया लिफाका, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी और विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव भी कार्यक्रम को संबोधित करने वाले हैं। जबकि शुरुआत में विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी स्वागत भाषण करेंगे और विधानपरिषद के कार्यकारी सभापति हारुण रशीद अंत में धन्यवाद ज्ञापन करेंगे।
विधानसभा हॉल में 17 फरवरी को ही दूसरे सत्र के कार्यक्रम में सांसद मुरली मनोहर जोशी “पार्लियामेंट्स रोल इन डेवलपमेंट एजेंडा” पर और केन्द्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद “विधायिका व न्यायपालिका- लोकतंत्र के दो स्तंभ” पर विषय प्रवेश व्याख्यान देंगे। इसके बाद “पार्लियामेंट्स रोल इन डेवलपमेंट एजेंडा” पर विमर्श सत्र होगा। अंत में जेनरल एसेम्बली की बैठक आहुत है।
“विधायिका व न्यायपालिका- लोकतंत्र के दो स्तंभ” विषय पर अगले दिन 18 फरवरी को विमर्श होगा। इस दिन समारोह को लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन, राज्यपाल सत्यपाल मलिक, विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी, विधानपरिषद के कार्यकारी सभापति हारुण रशीद भी संबोधित करेंगे। सम्मेलन में आने वाले प्रतिनिधि अंतिम दिन 19 फरवरी को गया-बोधगया व राजगीर-नालंदा की सैर करेंगे।
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की ओर से एक अणे मार्ग में 17 फरवरी की रात का भोज आयोजित है, जबकि दिन में अतिथि ज्ञान भवन में ही भोजन करेंगे। 18 फरवरी को दिन में विधानपरिषद के कार्यकारी सभापति हारुण रशीद ने विधानपरिषद के कबीर वाटिका में सबको भोजन कराने वाले हैं, जबकि रात का भोज विधानसभा अध्यक्ष विजय चौधरी की ओर से स्टेट गेस्ट हाउस में होने वाला है।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें


loading...


Loading...