भारत पांच मई को ‘दक्षिण एशिया उपग्रह’ प्रक्षेपण की योजना बना रहा है, इससे पाकिस्तान को छोड़कर दक्षिण एशिया क्षेत्र के सभी देशों का फायदा होगाl
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के के सूत्रों ने बताया कि इस संचार उपग्रह (जीसैट-9) का प्रक्षेपण पांच मई को किया जाना हैl श्रीहरिकोटा स्थित अंतरिक्ष केंद्र से जीएसएलवी-09 रॉकेट के जरिए इस उपग्रह का प्रक्षेपण किया जाएगाl प्रक्षेपण के वक्त 2,195 किलोग्राम द्रव्यमान वाला यह उपग्रह 12 केयू-बैंड के ट्रांसपॉंडरों को अपने साथ लेकर जाएगाl

पाकिस्तान इसमें शामिल नहीं है, क्योंकि पाकिस्तान इस परियोजना में शामिल ही नहीं होना चाहता थाl इस उपग्रह को ऐसे डिजाइन किया गया है जिससे कि यह अपने मिशन पर 12 साल से ज्यादा समय तक सक्रिय रहेl प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 में काठमांडो दक्षेस शिखर वार्ता के दौरान ही इस उपग्रह की घोषणा की थी और इसे ‘भारत के पड़ोसियों को तोहफा’ करार दिया थाl


loading…



Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *