‘भारत की बात, सबके साथ’ कार्यक्रम में मोदी की 10 अहम बातें

 74 


1- यह हमारे लोकतंत्र की ताकत है। लोकतंत्र में जनता ही भगवान है अगर वह फैसला कर ले तो एक चाय बेचने वाला भी उनका प्रतिनिधित्व करके रॉयल पैलेस पहुंच सकता है।
2- मैं मानता हूं कि जिस दिन बेसब्री खत्म हो जाएगी, उस दिन देश के काम नहीं आऊंगा। उन्होंने कहा कि हर शाम सोता हूं, तो दूसरे दिन का सपना लेकर सोता हूं। हर सुबह लक्ष्य होता है मेरे पास।
3- पीएम मोदी ने कहा कि आलोचना से ही लोकतंत्र पनपता है और सरकारें भी सतर्क रखती हैं। मैं मानता हूं कि मोदी सरकार की भरपूर आलोचना होनी चाहिए। इसलिए अगर कोई आलोचना करता है, तो मैं इसे सौभाग्य मानता हूं।
4- जो लोग मुझपर पत्थर फेंकते हैं, मैं उन्ही पत्थरों से रास्ता बना लेता हूं और उसी पर चलकर आगे बढ़ता हूं।
5- चुनाव लड़ने के समय मेरी आलोचना होती थी कि मैं विदेश नीति को नहीं समझ पाऊंगा। अब 4 साल के बाद कोई यह सवाल नहीं उठा सकता है: पीएम मोदी
6- चाहे कोई पैरामीटर हो, देश के लिए अच्छा करने में हमने कोई कमी नहीं रखी है।
7- हमने मां और बच्चों के स्वास्थ की चिंता करते हुए मैटरनिटी लीव 26 सप्ताह की कर दी है।
8- बलात्कार से जघन्य कुछ भी नहीं, एक बेटी के साथ अत्याचार कैसे सहन कर सकते हैं
9- भारत का चरित्र अजय-विजय रहने का है लेकिन किसी के हक को छीनने का नहीं है।
10- सर्जिकल स्ट्राइक की जानकारी देशवासियों को देने से पहले हमने पाकिस्तानी फौज को दी, हमने उन्हें बताया कि हमने ये किया है, वहां लाशें हटा लो।

loading…


Loading…


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *