बैंकों के हजारों करोड़ डकारने वाले 26 नए डिफॉल्टर की लिस्ट जारी

 90 


रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने देश के 26 डिफॉल्टरों की दूसरी सूची भेजते हुए कॉमर्शियल बैंकों से कहा है कि इन सभी डिफॉल्टरों को दिवालिया घोषित करने से पहले इनसे कर्ज वसूली की प्रक्रिया शुरू करें. RBI की पहली सूची में 12 डिफॉल्टरों के नाम थे.
RBI ने कॉमर्शियल बैंकों से कहा है कि वह पहले अपने नियम के तहत इन डिफॉल्टरों से कर्ज की वसूली करने की कोशिश करें. ऐसा न हो पाने पर सभी डिफॉल्टरों को बैंकरप्सी कानून के तहत दिवालिया घोषित करें. कर्ज वसूलने के लिए बैंकों को 13 दिसंबर तक का समय दिया गया है. वहीं दिवालिया घोषित करने की प्रक्रिया शुरू करने के लिए बैंकों को 31 दिसंबर तक नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT) में बैंकरप्सी कानून के तहत मुकदमा दर्ज करने को कहा गया है.


रिजर्व बैंक की इस दूसरी लिस्ट में शामिल कंपनियां में खासतौर पर पावर, टेलिकम्यूनिकेशन, स्टील और इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर से जुडी हैं. RBI ने अपनी सूची में उन कंपनियों को शामिल किया है जिनपर 30 जून तक किसी बैंक के कर्ज का 60 फीसदी बकाया है. RBI की सूची में वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज और जयप्रकाश एसोसिएट बड़े डिफॉल्टरों के तौर पर शामिल हैं. इन दोनों कंपनियों पर 1 ट्रिलियन रुपये से अधिक का नॉन परफोर्मिंग असेट (बैड लोन) है.
इससे पहले जून 2017 में रिजर्व बैंक ने 12 डिफॉल्टरों की पहली सूची जारी की थी. इन कंपनियों में बैंकिंग क्षेत्र का लगभग 25 फीसदी का बैड लोन है. इनमें एस्सार स्टील, भूषण स्टील, एबीजी शिपयार्ड, इलेक्ट्रोस्टील और अलोक इंडस्ट्रीज बड़े लोन डिफॉल्टर के तौर पर शामिल थे. अब इन कंपनियों को दिवालिया घोषित करने की प्रक्रिया पूरी करने के लिए केन्द्रीय बैंक ने निर्देश दिया है. रिजर्व बैंक द्वारा डिफॉल्टर की दोनों सूची में वो कंपनियां शामिल हैं जिन पर कम से कम 5000 करोड़ रुपये का लोन बकाया है.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading…


Loading…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *