मुरादाबाद में दहेज लोभियों की करतूत ने एक युवती के शादी के सपने को मिट्टी में मिला दिया. दुल्हन पक्ष से दहेज में पहले कार मांगी. जिसको किसी तरह पूरा कर लिया गया. लेकिन उसके बाद जो मांग रखी गई उसको सुनकर दुल्हन पक्ष के होश उड़ गए.
दूल्हे के पक्ष ने बारात वाले दिन मेहमानों के खाने के लिए प्रतिबंधित पशु के मांस (बीफ) से बना कोरमा और रोटी का इंतजाम करने को कहा. लड़की पक्ष इंतजाम नहीं कर पाया तो रिश्ता तोड़ दिया.
रिश्ता टूटने के बाद लड़की ने पुलिस से न्याय की गुहार लगाई, जिसके बाद आधा दर्जन लोगों के खिलाफ दहेज अधिनियम का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. कुंदरकी थाना क्षेत्र के चांदपुर मंगोल गांव की रहने वाली रेशमा की शादी आने वाली 5 मई को बिलारी थाने के शेरपुर गांव के रहने वाले वाहीद हुसैन से तय हुई थी. शादी के कार्ड छप चुके थे. मेहमानों को बुलाने का सिलसिला भी शुरू हो चुका था.
तभी ससुराल पक्ष ने दहेज की मांग शुरू कर दी. दहेज में कार मांगने वाले ससुराली जब नहीं मानें तो बूढ़े पिता ने बेटी की ख़ुशी के लिए कर्ज लेकर कार का इंतजाम कर दिया.
रेशमा का होने वाला शौहर और उसके परिजन शादी के दिन बीफ के मांस से बना कोरमा और रोटी मेहमानों के लिए चाहते थे. लेकिन यूपी में प्रतिबंधित पशुओं के कटान पर लगी रोक के चलते यह संभव नहीं था.
इस मांग को पूरा नहीं कर पाने से दूल्हे के घरवालों ने रिश्ता तोड़ दिया. सगाई और अन्य रस्मों पर खर्च हुई रकम लौटाने से भी लड़के वालों ने मना कर दिया.

loading…



Loading…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *