बिहार में भी नहीं रिलीज होगी पद्मावती, भंसाली सफाई दें : नीतीश कुमार

 63 


राजस्थान, मध्यप्रदेश, गुजरात और UP के बाद बिहार सरकार ने भी पद्मावती फिल्म के रिलीज पर रोक लगा दी है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि जब तक फिल्म डायरेक्टर संजय लीला भंसाली और विवाद से जुड़े लोग सफाई नहीं देंगे, बिहार में फिल्म नहीं चलेगी।
नीतीश कुमार ने मंगलवार को फिल्म “पद्मावती’ पर हो रहे विवाद को लेकर रिव्यू मीटिंग की। बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने कहा कि रानी पद्मावती हमारी धरोहर हैं और उन्होंने खिलजी से प्रेम नहीं किया था। सेंसर बोर्ड इस मामले को देखे, हमें ऐतिहासिक तथ्यों के साथ छेड़छाड़ नहीं करनी चाहिए।
संजय लीला भंसाली के निदेशन और दीपिका पादुकोण के मुख्य भूमिका वाली इस फिल्म का पुरे देश में विरोध किया जा रहा है। लोगों ने फिल्म में इतिहास से छेड़छाड़ का आरोप लगाया है। उधर सुप्रीम कोर्ट ने पद्मावती के रिलीज पर रोक लगाने वाली दूसरी याचिका मंगलवार को खारिज कर दी। इससे पहले फिल्म पर बैन लगाने वाली एक अर्जी SC ने दस नवंबर को नामंजूर की थी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हमें सेंसर बोर्ड के अधिकार क्षेत्र (jurisdiction) में दखल नहीं देना चाहिए।

राजपूतों की करणी सेना के अलावा राजघराने भी फिल्म के खिलाफ हैं। इनकी मांग है कि इसे रिलीज करने के पहले उन्हें दिखाई जाए। राजपूतों ने चित्तौड़गढ़ का किला बंद रखकर भी प्रदर्शन किया था। करणी सेना ने दीपिका पादुकोण की नाक काटने और हरियाणा के एक भाजपा नेता ने दीपिका और भंसाली का सिर काटने पर दस करोड़ के इनाम का एलान किया था।
सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी के अनुसार फिल्म के डॉक्युमेंट्स में यह बात साफ नहीं है कि यह एक फि‍क्शन है या हिस्टोरिकल। पेपर्स अधूरे होने और फिल्म की कैटेगरी को ब्लैंक छोड़ने की वजह से ही सेंसर बोर्ड ने मूवी मेकर्स से ये दस्तावेज मुहैया कराने के लिए कहा है। हाँलाकि इसके बाद भी सेंसर बोर्ड पर फिल्म के सर्टिफिकेशन में देरी करने का आरोप लगाया जा रहा है।
राजनाथ सिंह, उमा भारती, लालू प्रसाद यादव, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित कई नेताओं ने बयान दिए हैं कि लोगों की भावनाओं का ध्यान रखना चाहिए।


हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें


loading...


Loading...





Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *