बिहार के मुख्यमंत्री एवं जनता दल यूनाइटेड के अध्यक्ष नीतीश कुमार के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से दिल्ली में मुलाकात के बाद दोनों दलों के बीच सीटों के बंटवारे का ऐलान कर दिया गया, दोनों ही दल लोकसभा में सूबे की बराबर सीटों पर चुनाव लड़ेंगे. इसके थोड़ी ही देर बाद बिहार में केंद्रीय मंत्री और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने राजद नेता तेजस्वी यादव से अरवल स्थित गेस्ट हाउस में मुलाकात की, इस मुलाकात से लोकसभा चुनाव के मद्देनजर सियासी पारा काफी चढ़ गया है.
अमित शाह और नीतीश कुमार ने समझौते की घोषणा करते हुए कहा कि राज्‍य में एनडीए बड़ी ताकत बनेगा. शाह ने कहा कि कौन सी पार्टी कितनी सीटों पर चुनाव लड़ेगी इसकी घोषणा 2-3 दिन में कर दी जाएगी. बहुत दिनों से बिहार में लोकसभा चुनाव के संदर्भ में सभी साथी दलों से चर्चा चल रही थी. आज नीतीश कुमार के साथ विस्तृत चर्चा हुई और तय हुआ कि भाजपा और जदयू बराबर बराबर सीटों पर चुनाव लड़ेंगे.
साथ ही उन्‍होंने कहा कि उपेंद्र कुशवाहा और रामविलास पासवान दोनों ही एनडीए में बने रहेंगे और अगर कोई नया साथी गठबंधन में शमिल हुआ तो सभी की सीटें घटेंगी. शाह ने बताया कि यह भी तय हुआ है कि बिहार में नीतीश कुमार, रामविलास पासवान और सुशील कुमार मोदी पूरे अभियान को नेतृत्व प्रदान करेंगे. सीटों के बंटवारे में संख्या के बारे में एक सवाल के जवाब में शाह ने कहा कि सभी सहयोगियों को सम्‍मानजनक सीटें मिलेंगी. एक बार सैद्धांतिक बातें तय हो जाने के बाद कौन किन किन सीटों पर चुनाव लड़ेगा, इस बारे में चर्चा करके चीजें तय कर ली जायेंगी.


जदयू अध्‍यक्ष और बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने भाजपा के साथ समझौते पर कहा कि हमारी बातचीत हो गई है, जदयू और भाजपा बराबर सीटों पर लड़ेंगी. बाकी सहयोगी दलों से अंतिम दौर की बातचीत चल रही है तथा सीटों का ऐलान भी 2-3 दिन में कर लेंगे.
सूत्रों के मुताबिक भाजपा और जदयू 16-16 सीटों पर लड़ेंगी, एलजेपी 6 और आरएलएसपी 2 सीट पर लड़ सकती है. वहीं, अगर कुशवाहा एनडीए से अलग होते हैं तो भाजपा और जदयू 17-17 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी. लोक जनशक्ति पार्टी और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी पहले भी सीट बंटवारे के चल रहे फार्मूले से नाराजगी जता चुके हैं. 2014 के चुनाव में 40 सीटों में से 31 पर एनडीए ने सफलता पाई थी जिसमें 22 सीटें बीजेपी, 6 सीटें लोक जनशक्ति पार्टी और 3 राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी को मिली थी.
शुक्रवार को दिल्ली में सीटों के बंटवारे को लेकर हुए ऐलान के थोड़ी ही देर बाद केंद्रीय मंत्री और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने राजद नेता तेजस्वी यादव से बिहार में अरवल स्थित गेस्ट हाउस में मुलाकात की. इस मुलाकात के सियासी मायने निकाले जाने लगे हैं. सूत्रों के अनुसार तेजस्वी यादव ने चिराग पासवान से भी फोन पर बात की है.
उपेन्द्र कुशवाहा ने इस मुलाकात के बाद कहा कि एनडीए में सीट शेयरिंग पर अंतिम फैसला नहीं हुआ है. 50:50 के फार्मूले का कोई अंत नहीं है. यह 5-5, 15-15 या 20-20 सीट भी हो सकता है. जब तक कुछ तय नहीं होता है तब तक कुछ बोलना कैसे संभव है? उन्होंने कहा कि वह एनडीए में हैं. यह संयोग है कि तेजस्वी भी अरवल में ही थे.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *