बिहार में अब बनेगी NDA की सरकार, आज नितीश लेंगे शपथ, PM भी होंगे शामिल

 122 

बिहार में पिछले एक महीने से जारी सियासी उठापटक के बाद आखिरकार बड़ा फैसला निकल आया है. महागठबंधन के दो दलों राजद और जेडीयू के बीच चल रहे शीतयुद्ध का अंत नीतीश कुमार के बड़े फैसले के साथ हुआ. नीतीश कुमार ने सीएम के पद से इस्तीफा दे दिया है. वहीं पीएम मोदी ने नीतीश कुमार को इस्तीफा देने के बाद बधाई दी है.
नीतीश के इस्तीफे के कुछ ही घंटे बाद बीजेपी ने नीतीश कुमार को बिना शर्त समर्थन देने का ऐलान कर दिया है. वहीं सुशील मोदी ने कहा कि हम नीतीश कुमार को अपना नेता मानने के लिए तैयार हैं. बीजेपी और जेडीयू के सभी विधायक नीतीश के घर बैठक के लिए पहुंच रहे हैं. बीजेपी ने राजभवन को समर्थन की चिट्ठी भेज दी है.
लालू यादव ने राज्‍यपाल से उन्‍हें सरकार बनाने का मौका दिए जाने की मांग की है. उन्‍होंने कहा कि राजद सबसे बड़ा दल है,इसलिए सरकार बनाने का मौका उन्‍हें दिया जाना चाहिए.
इस बीच जेपी नड्डा और अनिल जैन पर्यवेक्षक के तौर पर बिहार जा रहे हैं. बीजेपी विधायक दल की बैठक शुरू हो गई है. सीएम के आवास में यह बैठक चल रही है. दोनों दलों के सभी विधायक इसमें मौजूद हैं. नीतीश के घर चल रही जेडीयू-बीजेपी के बैठक में नीतीश कुमार को नेता चुना गया है. बताया जा रहा कि सुशील मोदी डिप्टी सीएम हो सकते हैं.
इस बीच राज्यपाल केशरी नाथ त्रिपाठी बीमार हो गए हैं. बताया जा रहा कि उनके नाक में इन्फेक्शन हो गया है. लेकिन उपचार के बाद वे लौट आए. लालू यादव ने ट्वीट कर नीतीश कुमार पर तंज कसा है.
नीतीश कुमार ने इस्‍तीफे के बाद कहा कि उन्‍होंने गठबंधन धर्म का पालन किया. इस माहौल में मेरे लिए काम करना, नेतृत्‍व करना संभव नहीं. हमने कभी किसी का इस्‍तेमाल नहीं किया. जो भी आरोप लगे हैं उन्‍हें एक्‍सप्‍लेन कीजिए. आम जनता के बीच जो अवधारणा बन रही है उसे ठीक करने की जरूरत है.

हमने किसी का इस्‍तीफा नहीं मांगा है. यह हमारे अंतरात्‍मा की आवाज है. यह कोई संकट नहीं है. यह अपने आप लाया गया संकट है. हमने इतने दिनों तक इंतजार किया और लगा कि अब काम नहीं हो पाएगा. राहुल गांधी से भी इस्‍तीफे की बात हुई है. हमने नोटबंदी का समर्थन किया. इस पर ना जाने क्‍या-क्‍या आरोप लग गए. हमने जो जनहित में था उसका समर्थन किया.
वहीं नीतीश के इस्तीफे के बाद लालू यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए पलटवार किया है. लालू ने कहा कि नीतीश पर हत्या का आरोप है. उन पर 1991 में हत्या का आरोप लगा था. नीतीश पर आर्म्स एक्ट में भी केस दर्ज है. नीतीश ने कहा था कि वे बीजेपी मुक्त भारत चाहते हैं. लालू ने सवाल किया कि ये कैसी ईमानदारी है? लालू ने कहा के ये भाजपा और आरएसएस से मिले हुए हैं.
वहीं बीजेपी नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा नीतीश जी अटल जी के समय से भाजपा के साथ थे. हमने नीतीश जी को नहीं छोड़ा उन्होंने बीजेपी को छोड़ा था. ये महागठबंधन बेमेल था. नीतीश कुमार से हाथ मिलाने की बात पर रविशंकर प्रसाद ने कहा कि अभी देखना होगा कि नीतीश कुमार और लालू यादव का अगला कदम क्या होगा.
इससे पहले बुधवार की सुबह ही पार्टी के वरीय नेता और प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने इस बात के संकेत दिये थे. तेजस्वी पर इस्तीफे के लिये बन रहे दबाव के बाद भी उन्होंने इस्तीफा नहीं दिया था जिसके बाद से ही ये कयास लगाये जा रहे थे कि सीएम नीतीश कुमार अपने पद से कभी भी इस्तीफा दे सकते हैं.
बुधवार को लालू और तेजस्वी ने विधानमंडल की बैठक के बाद एक बार फिर से इस्तीफा न देने की बात कही थी जिसके बाद से ही जेडीयू के विधानमंडल दल की बैठक को महत्वपूर्ण माना जा रहा था.


हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading…


Loading…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *