बिहार कला सम्मान 2018 मिला नीतू नवगीत को

 87 


पटना साहिब कला महोत्सव में बिहार के पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव ने बिहार की प्रसिद्ध लोक गायिका डॉ नीतू कुमारी नवगीत को बिहार कला पुरस्कार से सम्मानित किया ।
पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव और बिहार सरकार के पूर्व मंत्री श्याम रजक ने जन चेतना एवं जन शिक्षा पर केंद्रित स्वयंसेवी संस्था नई दिशा के 22 वें स्थापना दिवस समारोह में विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य के लिए समाजसेवी नीता सिन्हा, आरती सिंह, गायिका पापिया गांगुली, गायिका वागीशा झा, गायिका काजोल, गायक मुकेश कुमार, शगुन , प्रेम कुमार, सुमित वत्स आदि को भी सम्मानित किया गया ।
इसके पूर्व नई दिशा परिवार द्वारा आयोजित पटना साहिब कला महोत्सव में मंद-मंद बह रहे शीतल समीर के साथ कलाकारों ने जब अपना सुर-तान छेड़ा, तो पूरा वातावरण संगीत की स्वर लहरियों से गूंज उठा । जिसमें बिहार की प्रसिद्ध लोक गायिका डॉ नीतू कुमारी नवगीत ने पारंपरिक गीत “कोयल बिना बगिया ना शोभे राजा” प्रस्तुत कर श्रोताओं को झुमने पर मजबूर कर दिया।
data-ad-slot=”2847313642″

कार्यक्रम में पापिया गांगुली ने “जाने गली में आज चांद निकला”, वागीशा झा ने लोकगीत “सजन राजधानी पकड़ के आ जइयो” और मुकेश ने “है प्रीत जहां की रीत सदा” के गायन ने उपस्थित जनों का मन मोह लिया। रंगारंग समारोह में बच्चों के समूह द्वारा घूमर और कैसे खेले जइबू सावन में कजरिया सहित कई गीतों पर मनभावन और आकर्षक नृत्य पेश किया गया।
पटना साहिब कला महोत्सव के सफलतापूर्वक संचालन में संस्था के संस्थापक सचिव राजेश राज और कार्यक्रम प्रभारी रीता राज के साथ सूरज जेम्स और रीतांशु सिंह राणा ने विशिष्ट भूमिका निभाई। कार्यक्रम का संचालन दूरदर्शन की उद्घोषिका और गायिका जिज्ञासा द्वारा किया गया।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें


loading...


Loading...