बिटकॉइन एक्सचेंजों पर कई शहरों में IT के छापे

 75 


आयकर विभाग ने बुधवार को देशभर के प्रमुख बिटकॉइन एक्सचेंजों (कारोबारी परिसरों) में छापेमारी की। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार कथित रूप से टैक्स चोरी के मामले में यह कार्रवाई की गई है।
आयकर विभाग की जांच इकाई की अगुवाई में विभिन्न टीमों ने आयकर विभाग की धारा 133ए के तहत दिल्ली, बेंगलुरु, हैदराबाद, कोच्चि और गुरुग्राम समेत नौ एक्सचेंजों के परिसरों में सर्वे किया। सूत्रों के अनुसार छापेमारी करने वाली टीमों के पास इन एक्सचेंजों के बारे में तरह-तरह के वित्तीय आंकड़े और अन्य ब्योरे थे। देश में उनके खिलाफ यह पहली बड़ी कार्रवाई हो रही है। बिटकॉइन पर स्टेटस रिपोर्ट तैयार कर विभाग वित्त मंत्री और प्रधानमंत्री कार्यालय को सौंपगा।

बिटकॉइन वास्तव में वर्चुअल करेंसी है, देश में इसका निमयन नहीं होता है। इसके बढ़ते चलन से दुनिया भर के केंद्रीय बैंक चिंतित हैं। रिजर्व बैंक ने इस तरह की करेंसी रखने वाले लोगों को इसके जोखिम के बारे में आगाह किया है। इस साल मार्च में वित्त मंत्रालय ने देश और वैश्विक स्तर पर वर्चुअल करेंसी पर एक अंतर अनुशासनात्मक समिति का गठन किया था।
दक्षिण कोरिया ने बिटकॉइन जैसी वर्चुअल करेंसी में लेनदेन करने से अपने यहां के वित्तीय संस्थानों को रोक दिया है। अनुमान है कि दक्षिण कोरिया में दस लाख लोगों के पास बिटकॉइन हैं। जिनमें तमाम छोटे निवेशक भी शामिल हैं। वहां इसकी मांग ज्यादा होने के कारण कीमत अमेरिका के मुकाबले 20 फीसद ज्यादा है।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें


loading...


Loading...