बाढ़ में फंसे लोगों के लिए भगवान बनी सेना, अपनी जान पर खेलकर लोगों को बचा रहे जवान

 76 

देश के कई इलाकों में बारिश ने भयंकर तबाही मचा रखी है।
खास तौर पर पश्चिम भारत और पूर्वोत्तर के कई राज्यों में बारिश के चलते बाढ़ के हालात पैदा हो गए हैं। बाढ़ की वजह से कई नदी-नाले उफान पर आ गए हैं जिससे निचले इलाकों में रहने वाले लोगों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। सेना की मदद से बाढ़ में फंसे हजारों लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है।
बाढ़ से बेहाल गुजरात : प्रदेश के कई हिस्सों में हो रही लगातार बारिश के कारण पिछले दो दिनों में 7,000 से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है। उत्तरी गुजरात के बनासकांठा और साबरकांठा जिलों और दक्षिणी गुजरात के वलसाड जिले के कई क्षेत्रों में सोमवार लगातार बारिश हो रही है। पाटन जिले में भी बाढ़ का पानी कई रिहाइशी इलाकों और लोगों के घरों तक में घुस गया है। सीएम विजय रूपाणी ने स्थिति का जायजा लेने के लिए सुरेंद्रनगर जिले का हवाई सर्वेक्षण किया। रूपाणी ने राजकोट में अधिकारियों के साथ बैठक की और प्रशासन से लोगों की मदद करने को कहा क्योंकि बारिश के 29 जुलाई तक जारी रहने की संभावना है।
नासिक में बढ़ी गोदावरी : गोदावरी नदी के जलग्रहण क्षेत्रों में लगातार हो रही मूसलाधार बारिश की वजह से नदी का जलस्तर बढ़ गया है। सिंचाई विभाग के अधिकारियों ने यह जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि गंगापुर और डरना बांधों से कई क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है। अधिकारियों ने कहा कि गोदावरी नदी के तट पर स्थित रामकुंड इलाका पानी में डूब गया। साथ ही में उसके पास मौजूद छोटा मंदिर भी जलमग्न हो गया। जिला प्रशासन ने निचले इलाकों और नदी के तटों पर रहने वाले लोगों के लिए अलर्ट जारी किया है। अधिकारियों ने कहा कि लोगों से बाढ़ प्रभावित इलाकों और झरनों के पास नहीं जाने को कहा गया है। गोदावरी नदी के तट पर रहने वाले लोगों को अतिरिक्त एहतियात बरतने को कहा गया है।
असम में कुछ सुधार : असम में बाढ़ की स्थिति में सुधार हो रहा है। हालांकि राज्य के नौ जिलों के करीब 60,000 लोग अब भी इससे प्रभावित हैं। असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की रिपोर्ट के मुताबिक, लखीमपुर, बिश्वनाथ, बारपेटा, मोरीगांव, नगांव, गोलाघाट, जोरहाट शिवसागर और करीमगंज जिलों के तकरीबन 60,000 लोग अब भी बाढ़ से प्रभावित हैं। रविवार तक राज्य के 11 जिलों में 90,000 लोग प्रभावित थे। इस साल बाढ़ संबंधित घटनाओं में जान गंवाने वाले लोगों की संख्या 76 हो गयी है, जिनमें आठ लोगों की मौत गुवाहाटी में हुई है। बाढ़ के चलते 16,000 हेक्टेयर इलाके में फैली फसल डूब गयी है। इसके अलावा राजस्थान के जालौर और जम्मू-कश्मीर के उधमपुर में भी भारी बारिश के चलते जनजीवन पर बुरा असर पड़ा है। यहां भी कई रिहाइशी इलाकों में पानी घुस आया, जिसके चलते लोगों को खासी दिक्कत हो रही है।



हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading…


Loading…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *