चाइल्ड राइट्स एंड यू- क्राई ने ‘हमारी आकांक्षाएं सरकार से’ नामक बाल घोषणा पत्र जारी करते हुए आसन्न लोकसभा चुनाव में बच्चों से जुड़े सवालों एवं उनकी मांगों को अपने घोषणा पत्र में शामिल करने की मांग तमाम राजनीतिक दलों से की है.
‘चाइल्ड राइट्स एंड यू- क्राई’ ने भारत के बच्चों की आवाज के नाम से जारी बाल घोषणा पत्र में बच्चों के तात्कालिक, मध्यस्थ एवं दीर्घकालीन कार्य योजना पर चर्चा करते हुए संस्था ने इन योजनाओं को राजनीतिक दल से अपने अपने चुनावी घोषणा पत्र में शामिल करने की मांग की है.
बिहार बाल आवाज मंच के पुनाईचक,पटना स्थित प्रांतीय कार्यालय में बाल घोषणा पत्र जारी होने के बाद मंच के प्रांतीय समन्वयक राजीव रंजन राज के नेतृत्व में प्रतिनिधियों के शिष्ट मंडल ने विभिन्न राजनीतिक दल के प्रमुख नेताओं को समर्पित किया. प्रतिनिधियों में मुसाफिर दास, सूरज गुप्ता, संजय कुमार सिंह, सौरभ आदि शामिल थे.
बिहार बाल आवाज मंच के प्रांतीय समन्वयक राजीव रंजन राज ने इस संदर्भ में बताया कि चाइल्ड राइट्स एंड यू- क्राइ पिछले दो-तीन महीने से “बाल घोषणा पत्र” की तैयारी में जुटी थी. इसे तैयार करने में देश के विभिन्न प्रांतों के बच्चों की कार्यशाला आयोजित की गई. बच्चों द्वारा व्यक्त उनके मन की बात तथा उनकी भावनाओं को ही इस बाल घोषणा पत्र में संग्रहित किया गया है.
राजीव रंजन ने बताया कि बच्चे मतदाता नहीं होते हैं और यही वजह है कि बच्चों के सवालों तथा उनकी मांगों को राजनीतिक दल तवज्जो नहीं देते. क्राई एवं बिहार बाल आवाज मंच ने बाल अधिकार संरक्षण के मुद्दे पर काम करने के दौरान यह अनुभव किया कि राजनीतिक दलों को अपने घोषणा पत्र में बच्चों के मुद्दों को शामिल करना आवश्यक है. क्योंकि जब तक राजनीतिक दल अपने घोषणा पत्र में बच्चों के मुद्दों को शामिल नहीं करेंगे, तब तक सरकार उसके लिए नीति एवं योजना लागू कैसे करेगी?
उन्होंने कहा कि 18 साल तक की उम्र के बच्चों के लिए शिक्षा, सुरक्षा, स्वास्थ्य, पोषण जैसी बुनियादी जरूरतों पर प्रभावी कदम उठाते हुए काम करने की जरूरत है. आज स्कूल में बच्चे जा रहे हैं, लेकिन वहां क्वालिटी वाले शिक्षक नहीं हैं. आंगनवाड़ी केंद्र की स्थिति भी जगजाहिर है. शिक्षा, सुरक्षा, पोषण एवं स्वास्थ्य पर अधिक बजट की जरूरत है, तभी बेहतर शिक्षा, सुरक्षा एवं स्वास्थ्य-पोषण की पर्याप्त और समुचित व्यवस्था बच्चों के लिए हो सकती है.


loading…

Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *