बकरीपालन के लिए सभी को दो लाख सब्सिडी

 212 


किसानों को चालीस बकरी और दो बकरा पालन वाले चार लाख के प्रोजेक्ट में लाभुकों को सरकार पचास प्रतिशत कुल दो लाख रुपए अनुदान देगी.
पशु व मत्स्य संसाधन विभाग की इस योजना का लाभ सभी वर्ग के लोगों को मिल सकता है. इसमें गरीब और एससी व एसटी को प्राथमिकता दी जाएगी. पिछले वर्ष 2016-17 में बीस बकरी के साथ एक बकरा पालन के लिए सरकार पचास प्रतिशत यानी एक लाख रुपए अनुदान दे रही थी. इसके पहले बकरीपालन पर 2006 से 2009 तक सिर्फ बीपीएल परिवार को ही 30 प्रतिशत अनुदान दिया जाता था, यह योजना भी कई वर्षों से बंद थी. जिलावार इस योजना के क्रियान्वयन पर पहले चरण में लगभग 20 करोड़ की राशि खर्च होगी. इस योजना में सभी वर्ग के लाभुकों को समान अनुदान मिलेगा. सभी लाभुक जिला पशुपालन पदाधिकारी कार्यालय में वार्षिक आय के साथ ही बकरी पालन के लिए आवश्यक जमीन की उपलब्धता का जिक्र करते हुए आवेदन कर सकते हैं. आवेदन स्वीकृत होने की जानकारी लाभुक को दी जाएगी और शेड निर्माण तथा बकरी खरीदने के बाद लाभुक के खाता में अनुदान राशि भेजी जाएगी.


इस योजना से सालाना दो से ढाई लाख रुपए तक की आय हो सकेगी. एक बकरी से औसतन साल में दो से पांच बच्चे मिलेंगे, छह माह से एक वर्ष तक पालने के बाद इसे बचने पर एक बकरी या बकरा से लगभग तीन से चार हजार रुपए मिलेंगे.
इसी के साथ राज्य सरकार जीविका के माध्यम से लाभुकों का चयन कर अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के गरीब परिवारों को प्रत्येक बकरी के लिए 4-4 हजार रुपए की दर से एक परिवार को 12 हजार रुपए दे रही है. वित्तीय वर्ष 2016-17 में 8300 परिवार और 2017-18 में 4003 परिवार के लिए पशु व मत्स्य संसाधन विभाग ने राशि जीविका को दी है.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *