अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत-पाकिस्तान के बीच पैदा तनाव को बेहद खतरनाक बताते हुए कहा कि मुझे लगता है कि इस वक्त भारत कुछ बड़ा करने की सोच रहा है.
ट्रंप ने पुलवामा में CRPF जवानों पर कायराना हमले के बाद उत्पन्न स्थिति पर प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे थे. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने अमेरिकी मदद का गलत फायदा उठाया, इसीलिए उसे दी जाने वाली 1.3 बिलियन डॉलर की मदद तत्काल प्रभाव से रोक दी गयी है. पत्रकारों से बात करते हुए ट्रंप ने कहा कि इस वक्त भारत-पाकिस्तान के बीच खतरनाक चीजें हो रही है, यह एक बहुत ज्यादा खराब स्थिति है, दोनों देशों के बीच हालात बेहद खराब हैं. हम लोग चाहेंगे कि ये बंद हो, कुछ ही दिन पहले ही कई लोग मारे गए थे.
ट्रंप ने कहा कि मुझे लगता है भारत कुछ बहुत कड़ा (Very strong) करने की सोच रहा है, उसने अभी-अभी अपने 50 लोगों को खोया है. इसके बारे में कई लोग कई बात कर रहे हैं, लेकिन यहां स्थिति बहुत नाजुक है. कश्मीर में जो कुछ हुआ है, उस वजह से इस वक्त दोनों के बीच की दिक्कतें बहुत खतरनाक है.
इस बीच अमेरिका के न्यूजर्सी और न्यूयॉर्क में भारतीय मूल के लोगों ने पुलवामा आतंकी हमले के खिलाफ पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए प्रदर्शन किया और विश्व समुदाय से पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की.
पुलवामा में CRPF जवानों के काफिले पर हुए हमले के बाद दोनों के बीच तनाव चरम पर है, जिसमें भारत के 40 से ज्यादा जवान शहीद हुए. पाकिस्तान समर्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की जिम्मेदारी ली. भारत ने इस आतंकी हमले के लिए पाकिस्तान को जिम्मेदार ठहराते हुए उससे तुरंत MFN का दर्जा छीन लिया और इंपोर्ट ड्यूटी को 200% बढ़ा दिया.
संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) ने इस हमले को जघन्य और कायराना हरकत बताते हुए निंदा करने के साथ ही आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का जिक्र करते हुए कहा कि इस हमले के पीछे आतंक के जिन सरपरस्तों का हाथ है उन्हें सजा मिलनी चाहिए.
भारत-पाकिस्तान सीमा पर तनाव चरम पर है. दोनों तरफ से नए-नए बयान आ रहे हैं. पाकिस्तान को ‘दुष्ट देश’ करार देते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि वह पुलवामा के आतंकी हमले के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रहा है, जबकि दोषियों ने स्वयं हमले की जिम्मेदारी ली है. इस हमले के लिए जिम्मेदार पाकिस्तान के खिलाफ निर्णायक लड़ाई जीतने के लिए भारत सभी कूटनीतिक व अन्य उपायों का इस्तेमाल करेगा. वहीं पाकिस्तान के PM ने पाकिस्तानी सेना को सुरक्षा के मद्देनजर हर तरह के कदम उठाने के लिए अधिकृत किया और पाकिस्तान के सेना प्रमुख बाजवा ने नियंत्रण रेखा का दौरा किया है.
संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद के पुलवामा हमले की कड़ी निंदा करने के एक दिन बाद वैश्विक दवाब के बीच पाक सरकार ने आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के मुख्यालय को अपने नियंत्रण में ले लिया. पाकिस्तानी सेना ने आरोप लगाया कि पुलवामा हमला भारतीय सुरक्षा बलों की ‘‘विफलता” को दर्शाता है, भारत को कश्मीर पर आत्म-मंथन की जरूरत है.


loading…

Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *