प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुर्तगाल पहुंचने पर वहां के प्रधानमंत्री एंटोनियो कोस्टा ने उनका जबरदस्त स्वागत किया. दोनों के बीच युवा एवं सांस्कृतिक आदान-प्रदान को लेकर कई समझौतों पर हस्ताक्षर हुए हैं.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीन देशों की अपनी यात्रा के पहले चरण में पुर्तगाल के लिस्बन पहुंचे. 17 साल बाद कोई भारतीय प्रधानमंत्री पुर्तगाल के दौरे पर हैं. इससे पहले सन 2000 में अटल बिहारी वाजपेयी ने पुर्तगाल का दौरा किया था. इस दौरे से इंडिया-पुर्तगाल डायलॉग शुरू हुआ था, मोदी उसे आगे बढ़ाएंगे. मोदी ने पुर्तगाल में आग से झुलसे लोगों के प्रति संवेदना भी व्यक्त की.
लिस्बन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पुर्तगाल के प्रधानमंत्री एंटोनियो कोस्टा ने संयुक्त बयान जारी किया. कोस्टा ने कहा कि युवा एवं सांस्कृतिक आदान-प्रदान समेत 11 द्विपक्षीय समझौतों पर हस्ताक्षर हुए हैं, इसका भविष्य में अच्छा असर पड़ेगा.
इस अवसर पर मोदी ने कहा कि हम 40 लाख यूरो का संयुक्त विज्ञान एवं तकनीकी फंड गठित करने पर सहमत हुए हैं. टैक्सेशन, साइंस, स्पेश, यूथ अफेयर और स्पोर्ट के क्षेत्र में नए समझौते हुए हैं. आतंकवाद और हिंसा के खिलाफ दोनों देश मजबूत संबंध बनाने को दृढ़ संकल्प हैं.
मोदी ने कहा कि पुर्तगाल में फुटबॉल का जबरदस्त उत्साह है. पुर्तगाली प्रधानमंत्री कोस्टा स्वयं इसके बड़े फैन हैं. फुटबॉल भी दोनों देश के समाज को जोड़ सकता है. मोदी ने कहा कि हिंदी-पुर्तगाली डिक्सनरी विकसित की जा रही है और भारतीय फिल्मों को पुर्तगाली भाषा में डब किया जा रहा है.
मोदी ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता और बहुपक्षीय निर्यात नियंत्रण व्यवस्था के लिए भारत का लगातार समर्थन करने के लिए पुर्तगाल का शुक्रिया अदा किया. यूरोप के नए देशों के साथ संबंध सुधारने की भारत की कोशिश पिछले कुछ दिनों से लगातार चल रही है. पिछले महीने PM मोदी ने स्पेन और जर्मनी का दौरा किया था.

प्रधानमंत्री मोदी ने 17वीं शताब्दी में गोवा और पुर्तगाल के बीच हुए पत्रों के अदान-प्रदान वाले 12 हजार दस्तावेजों का एक डिजिटल संस्करण साझा करने के लिए पुर्तगाल को धन्यवाद दिया. मोदी ने कहा कि ये पत्र भारत में अनुसंधानकर्ताओं की मदद करेंगे. मोदी ने शनिवार को लिस्बन में राधा कृष्ण मंदिर में पूजा अर्चना की और भारतीय मूल के प्रमुख लोगों से बातचीत की.
पुर्तगाल के प्रधानमंत्री एंटोनियो कोस्टा इस साल जनवरी में भारत आए थे. वे प्रवासी भारतीय दिवस समारोह के चीफ गेस्ट थे. इसमें उन्हें सम्मानित किया गया था. इस दौरे में भारत और पुर्तगाल के बीच रक्षा सहयोग समेत छह MoU पर हस्ताक्षर हुए थे.
दोनों नेताओं के बीच पर्सनल केमिस्ट्री भी गजब की है. एंटोनियो कोस्टा गोवा (भारत) भारतीय मूल के हैं, उनके कई रिश्तेदार आज भी गोवा के मडगांव में रहते हैं. पुर्तगाल में भारतीय मूल के करीब 70 हजार लोग रहते हैं मोदी के सम्‍मान में पुर्तगाली PM ने लिस्‍बन में खास गुजराती व्‍यंजन परोसे. उसमें आखू शाक, साग कोफ्ता, राजमा और मकई, तड़का दाल, केसर राइस, पराठा, रोटी, पापड़, आम श्रीखंड, गुलाबजामुन, लस्‍सी और मसाला चाय शामिल रहा.

लिस्बन के लिए रवाना होने से पहले मोदी ने कहा था कि कोस्टा से अपनी मुलाकात के दौरान दोनों नेता अपनी हालिया चर्चाओं पर आगे कदम बढ़ाएंगे और विभिन्न संयुक्त पहलों एवं निर्णयों की प्रगति की समीक्षा करेंगे. जबकि पुर्तगाली प्रधानमंत्री कोस्टा ने ट्वीट किया कि यह उनकी भारत यात्रा के दौरान हुए समझौतों के क्रियान्वयन की समीक्षा और नए समझौतों पर दस्तखत का सुनहरा अवसर है.
फेसबुक पर लिखे गए एक बयान में मोदी ने कहा कि 25 जून से हो रही उनकी दो दिवसीय वाशिंगटन यात्रा ट्रंप के आमंत्रण पर हो रही है. ट्रंप और उनके कैबिनेट सहर्किमयों से आधिकारिक मुलाकात के अलावा मोदी कुछ बड़ी अमेरिकी कंपनियों के CEO से भी मिलेंगे।
मोदी 27 जून को नीदरलैंड जाएंगे, जहां वह डच प्रधानमंत्री मार्क रूट्टे के अलावा राजा विलेम-अलेक्जेंडर और रानी मैक्सिमा से भी मुलाकात करेंगे । इस साल भारत और नीदरलैंड दोनों देश अपने राजनयिक संबंध स्थापित होने के 70 साल मना रहे हैं।

ताज़ा अपडेट पाने के लिए हमारे पेज को लाइक करें


loading…

Loading…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *