पाक को झटका ; किशनगंगा व रातले प्रोजेक्ट पर विश्व बैंक से भारत को हरी झंडी

 71 


विश्व बैंक ने भारत को झेलम और चेनाब नदियों की सहायक नदियों पर कुछ शर्तों के साथ पनबिजली विद्युत संयंत्रों के निर्माण की अनुमति दे दी है.
विश्व बैंक ने कहा कि भारत और पाकिस्तान 1960 के सिंधु जल संधि के क्रियान्वयन में मतभेदों के बारे में चर्चा के लिए अगले महीने एक और दौर की बातचीत करेंगे.
विश्व बैंक ने एक संक्षिप्त बयान में कहा कि संबंधित पक्षों ने बातचीत जारी रखने और सितंबर में फिर से मिलने पर सहमति जतायी है. विश्व बैंक ने इस संदर्भ में ब्योरा प्रदान नहीं किया. आईडब्ल्यूटी को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच सचिव स्तर की बातचीत खत्म होने पर जारी एक ‘फैक्ट शीट’ में कहा गया है कि पाकिस्तान किशनगंगा (330 मेगावॉट) और रातले (850 मेगावॉट) पनबिजली विद्युत संयंत्रों के निर्माण का विरोध कर रहा है.


भारत इन संयंत्रों का निर्माण जम्मू कश्मीर में कर रहा है. दोनों संयंत्रों के तकनीकी डिजाइन संधि के प्रतिकूल है या नहीं, इस बात को लेकर दोनों देश असहमत हैं. इस संदर्भ में आईडब्ल्यूटी ने इन दोनों नदियों और सिंधु को ‘पश्चिमी नदियां’ घोषित किया है, जिसका पाकिस्तान असीमित इस्तेमाल कर सकता है.
‘फैक्ट शीट’ में विश्व बैंक ने कहा कि अन्य इस्तेमालों के साथ-साथ भारत संधि के अनुलग्नक में शामिल शर्तों को ध्यान में रखते हुए इन नदियों पर पनबिजली विद्युत संयंत्र का निर्माण कर सकता है. बैंक ने कहा कि आईडब्ल्यूटी के तकनीकी मुद्दों को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच सचिव-स्तरीय बातचीत ‘सद्भावना और सहयोग’ के माहौल में हुई.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading…


Loading…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *