करतारपुर गलियारे के आधारशिला कार्यक्रम में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा कश्मीर का उल्लेख करने को भारत ने ‘बेहद खेदजनक’ बताते हुए विदेश मंत्रालय ने कहा कि जम्मू कश्मीर भारत का ‘अभिन्न और अटूट’ हिस्सा है . साथ ही खालिस्तान समर्थक आतंकी गोपाल सिंह चावला और पाकिस्तान आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा की तस्वीर को लेकर भारत के ऐतराज जताने पर पाकिस्तान ने इसे मेहमाननवाजी बताया.
भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि ‘यह बेहद खेदजनक है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने इस पवित्र अवसर को राजनीतिक रंग देने के लिए चुना जो सिख समुदाय की करतारपुर गलियारा विकसित करने की लम्बे समय से की जा रही मांग को साकार करने से जुड़ा अवसर था.’
विदेश मंत्रालय ने कहा कि ऐसे अवसर पर अवांछित तौर पर कश्मीर का उल्लेख किया गया जो भारत का अभिन्न और अटूट हिस्सा है. पाकिस्तान अपने कब्जे वाले क्षेत्र में सीमापार आतंकवाद को सभी तरह का समर्थन और आश्रय देना बंद करने के लिए प्रभावी और विश्वसनीय कार्रवाई कर अपनी अंतरराष्ट्रीय जवाबदेही को पूरा करे.


भारतीय विदेश मंत्रालय ने कॉरिडोर की नींव रखने के मौके पर खालिस्तान समर्थक आतंकी गोपाल सिंह चावला और पाकिस्तान आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा की मुलाकात वाले तस्वीर को लेकर ऐतराज जताया तो पाकिस्तान ने इसे मेहमाननवाजी बता दिया.
पाकिस्तान आर्मी के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने ट्वीट कर चावला और बाजवा की मुलाकात पर दिखाई जा रही खबरों को भारतीय मीडिया की तंगनजर करार देते हुए कहा कि आर्मी चीफ ने पहचान से हटकर आयोजन में आए सभी मेहमानों से मुलाकात की. शांति की कोशिशों को दुष्प्रचार का हिस्सा नहीं बनाना चाहिए.
आधारशिला कार्यक्रम में इमरान खान ने कहा था कि- ‘मैं आज कह रहा हूं कि हमारे नेता, हमारी सेना और अन्य सभी संस्थान एकमत हैं. हम आगे बढ़ना चाहते हैं, हम एक शिष्ट संबंध चाहते हैं. हमारे सामने सिर्फ एक समस्या है, कश्मीर. अगर आदमी चंद्रमा पर जा सकता है तो कौन सी समस्या है जिनका हम हल नहीं कर सकते?’ हम इस समस्या का हल कर सकते हैं, लेकिन दृढ़ संकल्प और बड़े सपनों की जरुरत है.



loading…

Loading…






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *