देश में ऐसे लोग भी हुए हैं जिनकी सोच हमें पीछे ले जाने की वजह बनी : मोदी

 91 


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश में ऐसे भी लोग रहे, जिनकी सोच हमें पीछे ले जाने का कारण बनी। शनिवार को बिहार के मोकामा में कई प्रोजेक्ट्स की आधारशिला रखने के बाद एक सभा को संबोधित करते हुए PM ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की तारीफ करते हुए कहा कि नीतीश कुमार अच्छे CM हैं और वे हमेशा बिहार के विकास से बारे में सोचते हैं। इसके पूर्व PM ने पटना यूनिवर्सिटी के शताब्दी समारोह में हिस्सा लिया।
उन्होंने कहा कि हमारे देश में ऐसे भी लोग हैं, जिनकी सोच गलत है। अगर कोई अच्छी सड़क बनाने की बात करता है तो वे कहते हैं कि सड़क बनाने से क्या मिलेगा? सड़क पर तो कार दौड़ेगी और गरीब कार की सवारी करते ही नहीं हैं। ऐसी मानसिकता वाले लोगों ने देश को तबाह किया है। पिछले तीन साल में हमने काम को दोगुनी रफ्तार दी है। हमें बड़े-बड़े आर्थिक केंद्रों को दूर-दराज की जगहों से जोड़ना है। सड़क से आर्थिक समृद्धि आती है।
PM ने जनसभा में कहा कि मैं आप लोगों को भरोसा दिलाता हूं कि केंद्र और बिहार सरकार राज्य के विकास के लिए जो कुछ भी संभव होगा, करेगी। उन्होंने लोगों को दिवाली और छठ की बधाई देते हुए कहा कि करीब पौने चार हजार करोड़ रुपए की सौगात बिहार को मिली है। शायद देश की आजादी के बाद इतने कम समय में बिहार में इतना बड़ा काम नहीं हुआ होगा। आज जिन प्रोजेक्ट्स की नींव रखी गई है, उनसे राज्य के विकास को बढ़ावा मिलेगा।
PM ने कहा कि बिहार और नॉर्थ-ईस्टर्न यूपी के लोगों को दिवाली और छठ के लिए घर पहुंचने में कठिनाइयों का सामना नहीं करना पड़ेगा, रेल मंत्री ने 4 स्पेशल ट्रेनें शुरू की हैं। नितिन गडकरी सड़क निर्माण क्षेत्र में जितने प्रोजेक्ट शुरू कर रहे हैं, उसे सुन आप सब भी हैरान होंगे। बिहार सरकार और केंद्र सरकार कंधे से कंधा मिलाकर काम कर रहे हैं।
PM ने कहा कि गंगा को भावी पीढ़ी के लिए बचाना होगा, गंगा से हम सबका जीवन जुड़ा है। सरकार अरबों रुपए लगाकर गंगा को बचाने की कोशिश कर रही है। गंगोत्री से लेकर बंगाल सागर तक गंगा की सफाई के लिए काम किए जा रहे हैं। गंगा जिन राज्यों से होकर बहती है, वहां कोशिश की जा रही है कि गंदा पानी नदी में ना मिले। मां गंगा हमारे सपनों के अनुरूप होगी तो भक्ति का भाव कुछ और होगा। गडकरी ने वाटर वे अभियान चलाया है, जिससे कम खर्च में माल पहुंचाने की व्यवस्था होगी। अंग्रेज वाटर वे का इस्तेमाल करते थे, तब मोकामा को मिनी कोलकाता कहा जाता था।


PM ने कहा कि जिन गांवों में बिजली नहीं है, हमने वहां बिजली पहुंचाने का अभियान चलाया, प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना शुरू की है। इसमें भारत सरकार और राज्य सरकार मिलकर ऐसे लोगों के घर में बिजली का फ्री कनेक्शन देने का काम करेगी, जिन्हें अभी तक बिजली नहीं मिली थी। तीन साल बाद हमारी आलोचना करने वालों को भी यह बात माननी पड़ती है कि हम पिछली सरकारों की तरह चुनाव को ध्यान में रखकर योजनाएं नहीं बनाते हैं। चुनाव को देखते हुए योजनाएं लागू करना और फिर उसे भुला देना, अब ऐसा नहीं होता। हमारी सरकार जो योजनाएं चालू करती है उसे समय से पूरा करती है।
इसके पूर्व शनिवार को पटना पहुंचने पर PM ने पटना यूनिवर्सिटी के शताब्दी समारोह में हिस्सा लिया। यहाँ अपने संबोधन में PM ने देशभर की 20 बेस्ट यूनिवर्सिटी को पांच साल में दस हजार करोड़ रुपए के पैकेज का एलान किया, जिसमें दस यूनिवर्सिटी गवर्नमेंट और दस प्राइवेट सेक्टर की होंगी।
PM ने कहा कि इस धरती को नमन करता हूं, आज देश जहां भी है, वहां तक उसे पहुंचाने में इस यूनिवर्सिटी का बहुत बड़ा योगदान है। चीन में कहावत है कि- अगर आप सालभर की सोचते हैं तो अनाज बोइए। दस- बीस साल का सोचते हैं तो फल का पेड़ लगाइए और अगर पीढ़ियों की सोचते हैं तो मनुष्य को बोइए। पटना यूनिवर्सिटी का जो बीज सौ साल पहले बोया गया, कई पीढ़ियां पढ़कर निकलीं और देश को भी आगे ले गईं। शायद ही कोई ऐसा राज्य होगा जहां सिविल सेवा में टॉप करने वालों में पटना यूनिवर्सिटी का स्टूडेंट ना हो।
PM ने कहा कि नीतीश जी की जो बिहार को लेकर प्रतिबद्धता है, उसमें 2022 को लेकर संकल्प लेकर आगे बढ़ना है। जितनी पुरानी गंगाधारा है, बिहार में उतनी ही पुरानी ज्ञान की विरासत है। हिंदुस्तान में जब भी चर्चा आती है, नालंदा-विक्रमशिला को कौन भूल सकता है।
मोदी ने कहा कि पहले हम स्कूल-कॉलेज में सीखने के लिए जाते थे, अब वो युग खत्म हो चुका है। अब सोचने का दायरा बदला है, अब हमारी यूनिवर्सिटीज के लिए ये चुनौती है कि पुराना जो सीखकर आया है कि उसे कैसे भुलाएं। मिस्टर फॉक्स ने कहा था शिक्षा का काम है- दिमाग को खाली करना और दिमाग को खुला रखना। इसी में नए विचारों के लिए जगह बनेगी। नई टीचिंग में लर्निंग को बल देते हुए आगे चलना है।

PM ने कहा कि वही देश आगे बढ़ते हैं जो इनोवेशन को प्राथमिकता देते हैं। सिर्फ कॉस्मेटिक चेंज को संशोधन नहीं माना जाता। हमें भविष्य को राह दिखाने के लिए काम करना होगा। देश को अलग राह पर ले जाना है तो इनोवेशन को जितना बल मिलेगा हम उतना आगे खड़े रहेंगे। पहले दुनिया यही सोचती है हम सांप-सपेरों, कालाजादू वाला देश हैं। बाद में लोगों को अपनी सोच बदलनी पड़ी। एक बार ताइवान में मुझसे किसी ने पूछा कि क्या हिंदुस्तान अभी भी सांप-सपेरे, जादू-टोने वाला है। मैंने कहा कि मुझे देखकर क्या लगता है? पहले की पीढ़ी सांप से खेला करती थी, आज की पीढ़ी माउस से खेलती है।
मोदी ने कहा कि मेरा हिंदुस्तान जवान है, हिंदुस्तान के सपने भी जवान हैं। वो देश अपने सपनों को क्यों पूरा नहीं कर सकता? हमारे देश में शिक्षा क्षेत्र के रिफॉर्म बहुत धीमी गति से चले हैं। मतभेद भी काफी रहे हैं। उसी के परिणाम के चलते हमारी पूरी शिक्षा व्यवस्था में जो रिफॉर्म्स चाहिए, उसमें सरकारें कुछ कम पड़ गई हैं। देश में कई साल से चर्चा चल रही थी कि IIM आजाद रहे या उस पर सरकार का कंट्रोल रहे। IIM को हमने आजादी दे दी। अब IIM रिफॉर्म के अंदर एक बात जोड़ी गई है कि उसे चलाने में एल्युमिनाई को जोड़ा गया है। हमारे यहां ये परंपरा काफी कम है। एल्युमिनाई एक बड़ी ताकत होती है। मैं उस परंपरा को आगे ले जाने के लिए निमंत्रण देने आया हूं।
PM ने कहा कि विश्व की टॉप 500 यूनिवर्सिटी में भारत का कहीं नामोनिशान नहीं हैं। जहां, नालंदा, तक्षशिला, विक्रमशिला और वल्लभी दुनिया को आकर्षित करती थीं, आज ऐसा नहीं है। इस स्थिति को बदलना होगा। इसके लिए संकल्प और सिद्धी भी तो हमारी होना चाहिए। हम योजना लाए हैं कि देश की दस प्राइवेट और दस पब्लिक यूनिवर्सिटीज को वर्ल्ड क्लास बनाने के लिए सारे बंधनों से मुक्ति दी जाएगी। प्रतिस्पर्धा के जरिए उनके इतिहास-परफॉर्मेंस को देखा जाएगा। उनको अपनी दिशा में आगे बढ़ने दिया जाएगा। 5 साल में उन्हें 10 हजार करोड़ रुपए दिए जाएंगे। पटना यूनिवर्सिटी को पीछे नहीं रहना चाहिए। दुनिया में पटना यूनिवर्सिटी की ताकत दिखनी चाहिए।
इसके पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि PM में मुझसे म्यूजियम देखने की इच्छा जताई। ये हमारा सौभाग्य है। बुद्ध को यहीं बिहार की धरती पर ज्ञान मिला, महावीर का जन्म यहीं हुआ, ज्ञान भी उन्हें यहीं मिला। चाणक्य ने भी यहीं अर्थशास्त्र की रचना की। नरेंद्र मोदी राज्य में भाजपा और जदयू की सरकार बनने के बाद दूसरी बार बिहार आए हैं। इससे पहले उन्होंने 26 अगस्त को बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा किया था। आज प्रधानमंत्री ने कुल 3769 करोड़ के 8 प्रोजेक्ट की नींव रखेंगे।
जिसमें मोकामा में एनएच -31 के आंटा-सिमरिया खंड और बख्तियारपुर-मोकामा खंड को 4 लेन में बदलने वाले प्रोजेक्ट, 6 लेन वाले गंगा सेतु और राष्ट्रीय राजमार्ग-107 के महेशखूंट-सहरसा-पूर्णिया खंड पर राष्ट्रीय राजमार्ग-82 पर बिहारशरीफ-बरबीघा-मोकामा खंड पर 2 लेन के निर्माण कार्य के साथ ही पटना के लिए नमामि गंगे परियोजना के तहत सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट सीवरेज नेटवर्क की 4 प्रोजेक्ट की नींव रखी। जिसके लिए केंद्र ने 738 करोड़ की मंजूरी दी है।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *