देशभर में बिहार के प्रतिभाओं की है अलग पहचान : राष्ट्रपति

 77 



राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पटना स्थित ज्ञान भवन में NIT के दीक्षांत समारोह के आठवें दीक्षांत समारोह में 10 टॉपर्स को गोल्ड मेडल और छात्र-छात्राओं को डिग्री प्रदान की. राष्ट्रपति ने एनआईटी के 10 टॉपर्स को गोल्ड मेडल और डिग्री प्रदान किया. इसके पूर्व समस्तीपुर जिले के पूसा स्थित डॉ राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय के प्रथम दीक्षांत समारोह में शिरकत करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि कम से कम जमीन और पानी के इस्तेमाल से अधिक से अधिक पैदावार के लिए निरंतर नवाचार करते रहने की जरूरत है और इसके लिए हमें विज्ञान सम्मत कृषि परंपराओं, आधुनिक तकनीक और पद्धति में समन्वय करते हुए आगे बढ़ना होगा.
दीक्षांत समारोह में राष्ट्रपति ने कहा कि आज सूचना और आधुनिक तकनीक का दौर है इसे बढ़ावा देने वाले देश ही आगे बढ़ रहे हैं. दुनिया के जो भी देश आगे बढ़ रहे हैं उसमें सूचना तकनीक का बहुत ज्यादा महत्व है. कृषि वैज्ञानिकों के साथ मिल कर तकनीकी विशेषज्ञ काम करें ताकि देश और विकसित हो. राष्ट्रपति ने कहा कि मुझे देश के किसान बहनों-भाइयों और कृषि वैज्ञानिकों पर गर्व है जिन्होंने विश्व की दूसरी सबसे बड़ी आबादी वाले हमारे देश को खाद्य सुरक्षा प्रदान की है. आज वे खाद्य सुरक्षा से आगे बढ़कर पौष्टिक आहार और ऐसे अनाज का उत्पादन बढ़ाने के लक्ष्य की ओर बढ़ रहे हैं साथ ही हम कृषि उत्पादों का निर्यात करके विदेशी मुद्रा अर्जित कर रहे हैं.


राष्ट्रपति ने कहा कि कृषि क्षेत्र को मजबूत बनाने के लिए देशव्यापी प्रयास किये जा रहे हैं. कृषि मंडियां “मंडी पोर्टल” पर संबद्ध हैं और बड़े पैमाने पर कृषि उत्पादों का व्यापार कर रहे हैं. राष्ट्रीय किसान आयोग द्वारा सुझाये गये सुधारों को लागू किया गया है. देश की आबादी के मद्देनजर खेती लायक जमीन और जल संसाधन की कमी है इसलिए कम से कम जमीन और पानी के इस्तेमाल से अधिक से अधिक पैदावार के लिए निरंतर नवाचार करते रहने की जरूरत है. राष्ट्रपति ने कहा कि जिसे हम ग्लोबल वार्मिंग कहते हैं, यह भविष्य के लिए खतरे की घंटी है. भारत ग्लोबल वार्मिंग और जलवायु परिवर्तन को लेकर लगातार अपनी चिंता से विश्व को अवगत कराता रहा है और स्वयं इससे निपटने के प्रति गम्भीर है.
बीज से बाजार तक पूरी प्रक्रिया में नवाचार के अपार अवसर हैं जिनका उपयोग करके विद्यार्थी देश के कृषि विकास में अपना योगदान दे सकते हैं. केंद्र और राज्य सरकारों ने कृषि और इस पर आधारित उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए अनेक योजनाओं की शुरुआत की है. इसके अलावा मुद्रा योजनाएं उपलब्ध हैं जिनके जरिये कर्ज लिया जा सकता है. मुझे अनेक राज्यों के ऐसे उत्साही और सफल युवाओं के बारे में जानकारी मिली है जिन्होंने उच्च शिक्षा हासिल करने के बाद परंपरागत खेती से अलग कुछ नया करने का जोखिम उठाया है. उन युवाओं ने फल, फूल, सब्जी के साथ रबी और खरीफ फसलों की खेती भी आर्गेनिक तरीके से शुरू की है. आज उनके उत्पादों की मांग विदेशों में होने लगी है.’
राष्ट्रपति ने इस विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में 33 स्वर्ण पदक पाने वाले विद्यार्थियों का जिक्र करते हुए कहा कि प्रसन्नता की बात है कि विजेताओं में से 25 बेटियां हैं, ये बेटियां हमारे समाज और देश के सुदृढ भविष्य के प्रति हमें आश्वस्त करती हैं, देश को ऐसी बेटियों पर नाज है. इस दौरान 500 छात्र-छात्राओं को दी डिग्री दी गयीं. इनमें तीन विदेशी छात्र (अफ्रीका व अफगानिस्तान) भी शामिल हैं.
इस अवसर पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने संबोधन में जलवायु परिवर्तन पर चिंता जताते हुए उसके दुष्प्रभाव के कारण ‘‘क्रॉप साइकिल’ पर ध्यान दिये जाने की आवश्यकता रेखांकित करने के साथ ही अपने कार्यकाल के दौरान बिहार में कृषि क्षेत्र में हुई प्रगति का उल्लेख करते हुए कहा कि अब प्रदेश में तीसरे कृषि रोड मैप को लागू किया गया है. समारोह को केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री राधामोहन सिंह और राज्यपाल लालजी टंडन सहित कई अन्य वक्ताओं ने भी संबोधित किया.
ज्ञान भवन पटना में NIT पटना के आठवें दीक्षांत समारोह में अमित कुमार चौधरी (मेकेनिकल इंजीनियरिंग, ओवरऑल टॉपर, पीजी), चितरंजन कुमार झा, (मेकेनिकल इंजीनियरिंग, ओवरऑल टॉपर, यूजी), पीयूष कुमार सिंह (सिविल इंजीनियरिंग, पीजी), दैवामदिन मनोहर (इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कॉम्यूनिकेशन, पीजी), अमित कुमार चौधरी (मेकेनिकल इंजीनियरिंग, पीजी), आकांक्षा सचदेवा (सिविल इंजीनियरिंग, यूजी), शिवांस सिंह (कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग, यूजी), कुमार पीयूष (इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कॉम्यूनिकेशन इंजीनियरिंग), विशाल वर्मा (इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग) तथा चित्रांश कुमार झा (मेकेनिकल इंजीनियरिंग) कुल दस छात्र-छात्राओं को राष्ट्रपति ने गोल्ड मेडल तथा यूजी, पीजी व पीएचडी के कुल 736 छात्र-छात्राओं को डिग्री प्रदान किया.
समारोह में विशिष्ट अतिथि के रूप में राज्यपाल लालजी टंडन, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी मौजूद रहेंगे और छात्र-छात्राओं को संबोधित करेंगे. इस दौरान राज्यपाल लालजी टंडन, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार व विज्ञान ‌एवं तकनीकी मंत्री जयकुमार सिंह भी उपस्थित हुए. NIT पटना के निदेशक प्रो० पीके जैन ने अतिथियों का स्वागत किया. इसके पूर्व एक दिवसीय बिहार दौरे पर सुबह लगभग 10 बजे वायुसेना के विशेष विमान से पटना एयरपोर्ट पहुंचने पर राष्ट्रपति का राज्यपाल लालजी टंडन, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव, कृषि मंत्री प्रेम कुमार, DGP केएस द्विवेदी, पटना की महापौर सीता साहू, जिलाधिकारी रवि कुमार समेत समेत कई विशिष्ट लोगों ने स्वागत किया.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *