दुनिया को पाकिस्तान में आतंकी पनाहगाह बर्दाश्त नहीं, भारत को कोई धमका नहीं सकता : अमेरिका

 87 


UN में अमेरिकी एम्बेसेडर निक्की हेली ने भारत से स्ट्रैटेजिक अलायंस, आतंकवाद से जंग और इलाके में अमन के लिए जरूरी बताते हुए कहा कि अमेरिका आतंकियों के लिए पाकिस्तान में स्थित पनाहगाह सहन नहीं करेगा। भारत एक लोकतांत्रिक देश है, लंबे वक्त से एटमी ताकत भी है उसे कोई धमका नहीं सकता।
निक्की ने मंगलवार रात इंडिया-यूएस फ्रेंडशिप काउंसिल में स्पीच देते हुए मंगलवार की रात न्यूयॉर्क में हुए आतंकी हमले की भी निंदा की। उन्होंने कहा कि अमेरिका ने हाल ही में अफगानिस्तान और साउथ एशिया में आतंकवाद से लड़ने के लिए नई स्ट्रैटेजी लागू की है। इसमें भारत का अहम रोल है।

हेली ने कहा कि आतंकी पनाहगाहों को लेकर हम अफगानिस्तान सहित पूरे साउथ एशिया में काम कर रहे हैं। आतंकी अमेरिका को धमकी देते हैं। हम नहीं चाहते कि उनके हाथ एटमी हथियारों तक पहुंचें। इसके लिए सभी डिप्लोमैटिक, इकोनॉमिक और मिलिट्री पावर इस्तेमाल किए जाएंगे। हम चाहते हैं कि भारत इस मामले में हमारी मदद करे। अमेरिका ये भी चाहता है कि अफगानिस्तान में भारत खासतौर पर विकास के काम में हमारी मदद करे।
निक्की ने कहा कि कई मामलों में पाकिस्तान अमेरिका का सहयोगी रहा है, लेकिन हम ये साफ कर देना चाहते हैं कि पाकिस्तान की सरकार या वहां का कोई और संगठन आतंकियों को पनाह दे, अमेरिकी नागरिकों पर हमला करे, हम ये कतई बर्दाश्त नहीं कर सकते। इस बारे में हमने पाकिस्तान को सख्त लहजे में साफ भी कर दिया है। हम चाहते हैं कि पाकिस्तान आतंकियों पर अब पूरी ताकत से हमला करे।
हेली ने आतंकवाद के खिलाफ अमेरिका और भारत के सहयोग को जरूरी बताते हुए कहा कि हिंद महासागर में अमन बहाली करनी है तो इसमें भारत का रोल काफी अहम हो जाता है। जून में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुलाकात काफी कामयाब रही।
निक्की ने कहा कि दुनिया में भारत का रोल अब बहुत अहम हो गया है। क्योंकि वो लंबे वक्त से एटमी ताकत भी है। भारत एक लोकतांत्रिक देश है और उसे कोई धमका नहीं सकता। अमेरिका भारत के साथ एक स्ट्रैटेजिक अलायंस बना रहा है। इससे सिर्फ दोनों मुल्कों को ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया को फायदा होगा।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...





Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *