दुनिया की सबसे तेज ट्रेन, जमीन से 10 CM उपर चलती है.. जानकर चौंक जायेंगे इसकी विशेषता

 74 

मैग्लेव ट्रेन को दुनिया की सबसे तेज ट्रेन कहा जाता है। मैग्लेव दो शब्दों मैग्नेटिक लेवीटेशन से मिलकर बना है। मैग्लेव का मतलब है चुंबकीय शक्ति। यह ट्रेन जब करीब 100 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार पकड़ लेती है तब ट्रेन चुंबकीय शक्ति से पटरी से हवा में करीब 10 सेंटीमीटर ऊपर तक उठ जाती है और दौड़ती है। माना जा रहा है कि जापान सेन्ट्रल रेलवे वर्ष 2017 में इस ट्रेन को सर्विस में लाएगा।
इसकी सेवा टोकियो से नागोया शहरों के बीच शुरू की जाएगी। इस ट्रेन में न केवल रफ्तार, बल्कि लोगों की सुविधाओं पर पूरा ध्यान दिया जाएगा।
अब बात करते हैं फ्रांस की। फ्रांस में चलने वाली टीजीवी ट्रेन को दुनिया की सबसे तेज ट्रेन्स में एक माना जाता है। वर्ष 2007 में इस ट्रेन ने 574 किमी प्रति घंटा की रफ्तार पकड़ी थी और एक रिकॉर्ड स्थापित किया था। सामान्य तौर पर 320 किमी प्रति घंटा की स्पीड से चलती है। अब आती है चीन की बारी। चीन में बीजिंग से शंघाई तक चलने वाली ट्रेन हार्मनी सीआरएच 380ए की। यह ट्रेन सामान्य तौर पर 380 किमी प्रति घंटे की स्पीड चलाई जाती है। वर्ष 2010 में इस ट्रेन ने ट्रायल के दौरान 486 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ ली थी।

जहां तक जर्मनी की बात है तो यहां हनोवर से वुर्त्सबुर्ग के बीच चलाई जाने वाली आईसीई ट्रेन की गति प्रतिघंटा 250 किलोमीटर है। इस ट्रेन ने ट्रायल के दौरान 406 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार पकड़ी थी। फिलहाल ये चीन के शंघाई शहर में चल रही ट्रांसरैपिड दुनिया की सबसे तेज ट्रेन है। इस ट्रेन को शंघाई शहर से एयरपोर्ट तक की 30 किलोमीटर की दूरी तय करने में आठ मिनट का समय लगता है। इस ट्रेन की गति करीब 430 किलोमीटर प्रति घंटा है।
हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading…


Loading…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *