दाऊद की 43 हजार करोड़ की संपत्ति ब्रिटेन में जब्त, दुबई में चल रही प्रक्रिया

 88 


भारतीय जांच एजेंसियों की निशानदेही पर ब्रिटेन ने अंडरवर्ल्ड सरगना और 1993 मुंबई धमाकों के मास्टर माइंड दाऊद इब्राहिम की लगभग 43 हजार करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त कर ली है। उधर दुबई में भी उसके संपत्तियों की पहचान और जब्त करने की प्रक्रिया चल रही है।
हालांकि भारत सरकार की ओर से इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है। एक ब्रिटिश अखबार के अनुसार ब्रिटेन ने दाऊद के कई होटलों, घरों और वाणिज्यिक संपत्तियों को जब्त कर लिया है। माना जाता है कि भारतीय जांच एजेंसी प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने इन संपत्तियों की पहचान में अहम भूमिका निभाई है।
विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह ने उधर तिरुअनंतपुरम में सिर्फ इतना कहा कि बहुत कुछ हो रहा है, लेकिन अभी कुछ बताया नहीं जा सकता है।
अंडरवर्ल्ड सरगना और 1993 मुंबई धमाकों का मास्टर माइंड दाऊद इब्राहिम के खिलाफ विश्वव्यापी शिकंजा कसना शुरू हो गया है। इससे दाऊद के ड्रग और हथियारों के अंतरराष्ट्रीय तस्कर नेटवर्क की गतिविधियों को रोकने में भी मदद मिलेगी। ब्रिटेन और दुबई में संपत्तियों के जब्त होने के बाद दाऊद का काला साम्राज्य मुख्यतौर पर कराची और पाकिस्तान के कुछ हिस्सों में सिमट कर जाएगा। जहां वह ढाई दशक से ISI के संरक्षण में रह रहा है।
दाऊद ने अपनी काली कमाई का अधिकांश हिस्सा ब्रिटेन और दुबई में लगा रखा है। दुबई में भी उसकी हजारों करोड़ रुपये की संपत्ति होने का अनुमान है। भारतीय एजेंसियों ने दुबई को भी उन संपत्तियों की सूची सौंप दी है। वहां इसकी जांच हो रही है और जल्द ही वहाँ भी उसकी सारी संपत्तियों को जब्त किया जा सकता है।


ब्रिटेन में दाऊद ने 21 फर्जी नामों से संपत्ति ले रखी थी। इनमें अब्दुल शेख इस्माईल, अब्दुल अजीज, अब्दुल हमीद, अब्दुल रहमान, शेख मुहम्मद इस्माईल, अनीस इब्राहिम, शेख मुहम्मद भाई, बड़ा भाई, दाऊद भाई, इकबाल, दिलीप, अजीज इब्राहिम, दाऊद फारूकी, अनीस इब्राहिम, हसन शेख, दाऊद हसन, शेख इब्राहिम कासकर, दाऊद हसन, इब्राहिम मेमन, साबरी दाऊद, साहब हाजी और सेठ बड़ा जैसे नाम शामिल हैं। एक बार दाऊद के फर्जी नामों पर खरीदी गई संपत्तियों की पहचान होने के बाद उन्हें जब्त करना आसान हो गया।
ब्रिटेन के वार्विकशायर में दाऊद के होटल हैं, जबकि मिडलैंड में कई रिहायशी संपत्तियां हैं। इसी तरह लंदन की संपत्तियों में सेंट जॉन वुड रोड, होर्नचर्च, एसेक्स, रिचमोंड रोड, टॉम्सवुड रोड, चिगवेल, रो हैम्पटन हाई स्ट्रीट, लांसलोट रोड, थार्टन रोड, स्पाइटल स्ट्रीट, डार्टफर के बड़े-बडे रिहयाशी कॉम्प्लैक्स और कमर्शियल बिल्डिंग्स शामिल हैं।
दाऊद इब्राहीम की संपत्तियों को भारत के किसी केस के सिलसिले में जब्त नहीं किया गया है। बल्कि ब्रिटेन ने उसके अंतरराष्ट्रीय आतंकी होने के आधार पर उसकी संपत्तियों को जब्त किया है। संयुक्त राष्ट्र संघ दाऊद को अलकायदा से जुड़ा अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित कर चुका है। ऐसे में दुनिया के सभी देशों को उसकी संपत्ति होने की स्थिति में जब्त करने का अधिकार है।
भारत लंबे समय से दुनिया के तमाम देशों को दाऊद के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए कहता रहा है। लेकिन, पहली बार उसके खिलाफ कार्रवाई संभव हुई है। भारत दाऊद के पाकिस्तान में होने का पुख्ता सुबूत देता रहा है, लेकिन पाकिस्तान इसे नकारता रहा है। पिछले महीने ही ब्रिटेन के ट्रेजरी विभाग ने एक लिस्ट जारी की थी, जिसमें दाऊद के पाकिस्तान में भी तीन ठिकानों का उल्लेख किया गया था।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें

loading...


Loading...



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *