जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार MLC ने संवाददाता सम्मेलन में बिहार में मचे राजनैतिक बवाल को थोड़ा और बढ़ाते हुए उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के संदर्भ में बगैर उनका नाम लिए कहा कि पार्टी गठबंधन धर्म का पालन करना जानती है, जिनपर आरोप लग रहे हैं, वे जनता की अदालत में इस बारे में स्पष्ट तथ्यात्मक विवरण दें.
इसके पूर्व बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आवास पर आज बुलाई गयी जदयू विधायकों, सांसदों और जिला पदाधिकारियों की अहम बैठक के समाप्त होने के बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता रमई राम ने कहा कि उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के इस्तीफे के मुद्दे पर पार्टी चार दिन बाद कोई फैसला लेगी.
बिहार सरकार में सहयोगी राजद प्रमुख लालू यादव और उनके परिवार के सदस्यों से जुड़े 12 ठिकानों पर CBI द्वारा शुक्रवार को छापेमारी के मामले में दर्ज FIR में उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव का नाम शामिल रहने के बाद जदयू नेताओं की चुप्पी आज बैठक के बाद टूटी.


माना जा रहा है कि जदयू की बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार में जारी सियासी हलचल को लेकर ग्राउंड लेवल पर वर्करों की राय से अवगत होने के बाद पार्टी नेताओं से कहा है कि वह सिद्धांतों से समझौता नहीं करेंगे. बैठक में तेजस्वी के इस्तीफे को लेकर जारी सियासी चर्चा को लेकर भी पार्टी नेताओं के बीच रणनीति पर विचार-विमर्श किया गया और कांग्रेस व अन्य दलों की तरह भ्रष्टाचार के मुद्दे पर लालू यादव का समर्थन नहीं करने का निर्णय लिया गया.
बिहार सरकार के मंत्री जय कुमार सिंह ने बैठक के वाद कहा कि नीतीश कुमार ने अपने राजनीतिक जीवन में हमेशा जीरो टॉलरेन्स ऑन करप्शन की नीति अपनायी है, नीतीश ने कभी इस नीति से समझौता नहीं किया है. आगे भी इस नीति से कोई समझौता नहीं होगा, चाहे कोई भी व्यक्ति हो या कितनी बड़ी कुर्बानी देनी पड़े.
इससे पहले सोमवार को राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने पार्टी विधायकों की बैठक में फैसला हुआ था कि तेजस्वी यादव इस्तीफा नहीं देंगे. आज मुख्यमंत्री आवास पर तीन घंटे से ज्यादा चली जदयू विधायकों, सांसदों और जिला पदाधिकारियों की अहम बैठक में नीतीश कुमार को इस मामले में अंतिम निर्णय लेने के लिए अधिकृत किया गया.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें


loading…


Loading…



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *