जिन बेटियों के साथ जुल्म हुआ, उनके साथ न्याय होगा: उन्नाव-कठुआ रेप केस पर पहली बार बोले PM मोदी

 128 


नरेंद्र मोदी ने कठुआ सामूहिक दुष्कर्म और उन्नाव रेप केस पर पहली बार चुप्पी तोड़ी। उन्होंने शुक्रवार को यहां अंबेडकर स्मारक के उद्घाटन के मौके पर इन दोनों घटनाओं का नाम लिए बिना इनके बारे में टिप्पणी दी। मोदी ने कहा, ‘‘पिछले दो दिन से जो घटनाएं चर्चा में हैं, वो निश्चित रूप से किसी भी सभ्य समाज को शोभा नहीं देतीं। ये शर्मनाक हैं। एक समाज के रूप में, एक देश के रूप में, हम सब इस के लिए शर्मसार हैं। मैं देश को विश्वास दिलाना चाहता हूँ की कोई अपराधी बचेगा नहीं, न्याय होगा और पूरा होगा।’’
– मोदी ने कहा- ‘‘जिस तरह की घटनाएं बीते दिनों में देखी हैं, वो सामाजिक न्याय की अवधारणा को चुनौती देती हैं। जिन स्वतंत्रता सेनानियों ने देश के लिए जिंदगी कुर्बानी कीं, ये घटनाएं उनका अपमान हैं।’’
– ‘‘ये देश को शर्मसार कर देने वाली घटनाएं हैं। देश के किसी भी राज्य में, किसी भी क्षेत्र में होने वाली ऐसी वारदात मानवीय संवेदनाओं को झकझोर देती हैं। मैं देश को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि कोई अपराधी बचेगा नहीं। न्याय होगा और पूरा होगा। बेटियों के साथ जो जुल्म हुआ, उन बेटियों को न्याय मिलकर रहेगा।’’
– ‘‘मैंने तो लाल किले से बोलने का साहस किया था कि लड़की से नहीं, लड़कों से पूछो। मैंने प्रधानमंत्री बनने के बाद स्वतंत्रता दिवस पर अपने पहले भाषण में कहा था कि हम लड़की को तो पूजते हैं लेकिन लड़की देर से आती है तो पूछते हैं कि क्यों देर से घर आई? लेकिन लड़कों से पूछना चाहिए कि वो देर से क्यों आए? हम सभी का दायित्व बनता है कि गुनहगारों को सख्त से सख्त सजा हो।’’
– कठुआ और उन्नाव दुष्कर्म मामले का नाम लिए बिना मोदी ने कहा, ‘‘दोषियों को भारत सरकार सजा दिलाने में कोई कोताही नहीं होने देगी, मैं इसका भरोसा दिलाना चाहता हूं। हमें सामाजिक व्यवस्था से लेकर न्याय व्यवस्था, सभी को मजबूत करना होगा।’’
– राहुल गांधी ने शुक्रवार को ट्वीट कर प्रधानमंत्री से दो सवाल किए थे। उन्होंने कहा था, ‘‘श्रीमान प्रधानमंत्री, आपकी चुप्पी अस्वीकार्य है। 1) महिलाओं और बच्चों के खिलाफ बढ़ती हिंसा के बारे में आप क्या सोचते हैं? 2) सरकार दुष्कर्मियों और हत्यारों को क्यों बचाती हैं? …भारत (आपके जवाब का) इंतजार कर रहा है।’’

– जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में 10 जनवरी को अल्पसंख्यक समुदाय की एक 8 साल की बच्ची को अगवा किया गया। उसे रासना गांव के एक मंदिर में बंधक बनाकर गैंगरेप किया गया। बाद में उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी गई। फिर पत्थर से सिर कुचल दिया गया। 17 जनवरी को उसका शव मिला था।
– 3 महीने बाद 10 अप्रैल को पुलिस ने 8 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की।
– चार्जशीट में कहा गया है कि सांझी राम ने बकरवाल समुदाय को इलाके से हटाने के लिए बच्ची से गैंगरेप और हत्या की साजिश रची थी।
– इस घटना को लेकर कांग्रेस लगातार मोदी से सवाल कर रही थी। कांग्रेस ने कहा था- देश का नारा बेटी छुपाओ था या बेटी बचाओ? राहुल गांधी ने भी गुरुवार रात ट्वीट कर लोगों से जुटने की अपील की। रात 12 बजे उन्होंने प्रियंका गांधी और कांग्रेस के बाकी नेताओं के साथ कैंडल मार्च निकाला। साढ़े पांच साल बाद निर्भया केस जैसा विरोध प्रदर्शन नजर आया।

loading…


Loading…


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *