जस्टिस लोया के मौत की जांच सीनियर जज से कराएं : राहुल गाँधी

 82 


सुप्रीम कोर्ट के 4 जजों की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि जजों ने जो प्वाइंट उठाए हैं वो बेहद जरूरी है। उन्होंने लोकतंत्र को खतरा बताया है, जस्टिस लोया की मौत का मामला उठा, इस तरह की बातें पहले कभी नहीं हुई हैं। देश के सभी लोग न्याय में विश्वास करते हैं, सुप्रीम कोर्ट पर भरोसा करते हैं, इसलिए बहुत गंभीर मामला है।
जजों की प्रेस कॉन्फ्रेंस के तुरंत बाद राहुल गांधी के आवास पर कांग्रेस नेताओं की बैठक हुई, जिसमें राजनीति के साथ वकालत करने वाले सलमान खुर्शीद, मनीष तिवारी और पी. चिदंबरम समेत कई नेता शामिल हुए। बैठक के बाद हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में राहुल गांधी ने कहा कि सीनियर जजों ने मीडिया को दिए और चीफ जस्टिस को लिखे लेटर में जो मुद्दे उठाए हैं, वो परेशान करने वाले हैं। जस्टिस लोया की मौत की जांच सीनियर जज से करानी चाहिए।
पूर्व कानून मंत्री हंसराज भारद्वाज ने कहा कि इससे पूरे इंस्टीट्यूशन की प्रतिष्ठा कम हुई है। जब आपने जनता का भरोसा खो दिया तो फिर क्या बचा? ज्यूडिशियरी को लोकतंत्र का स्तंभ बनना चाहिए। कानून मंत्री की जिम्मेदारी है कि वह कैसे काम करती है।
वहीं पूर्व कानून मंत्री सलमान खुर्शीद ने कहा कि मैं बेहद दुखी हूं कि सुप्रीम कोर्ट में तनाव को लेकर जजों को आज मीडिया को एड्रेस करना पड़ा है।
पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि जो कदम आज जजों ने उठाया है, उसका आगे असर होगा। सीबीआई जज लोया की मौत पर उनका परिवार सवाल उठा चुका है। कांग्रेस इस मामले की जांच सीनियर जज से कराने की मांग करती है।
वहीं भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि ये सुप्रीम कोर्ट के भीतर का मामला है और अटॉर्नी जनरल ने इस पर स्टेटमेंट दिया है. इस पर राजनीति नहीं की जानी चाहिए. मैं आश्चर्यचकित हूं और दुखी भी कि, जिस कांग्रेस को लोगों ने कई बार रिजेक्ट किया है, वो इसका राजनीतिक फायदा उठाने की कोशिश कर रही है. इससे वो खुद ही बेनकाब हो रही है.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए Pileekhabar के Facebook पेज को लाइक करें


loading...


Loading...