हाल ही में इंडोनेशिया में International mathematics competition का आयोजन किया जिसमे भारत के तुषार तालावत ने जीत हासिल करके यह सिद्ध कर दिया है कि भारतीय किसी से कम नहीं हैं और हम पहले भी विश्व गुरु थे और आज भी हैं. आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि तुषार महज 14 साल का है. तुषार अहमदाबाद के हेमचन्द्राचार्य संस्कृत पाठशाला नाम के गुरुकुल का छात्र है.

यह प्रतियोगिता अबेकस लर्निंग ऑफ हायर एकेडमिक इंटरनेशनल द्वारा 24 जुलाई को आयोजित की गई थी. इसमें कुल मिलकर 18 देशों के लगभग 1300 बच्‍चों ने हिस्‍सा लिया था. जिसमे भारत के तुषार तालावत ने पहला स्थान हासिल कर इंडोनेशिया में देश का डंका बजाया है.

इससे पहले भी तुषार कई स्टेट और नेशनल लेवल के कॉम्पटीशन में अपनी योग्यता का लोहा मनवा चुका है. आरएसएस एफेलिएटेड भारतीय शिक्षण मंडल के ज्‍वाइंट ऑर्गेनाइजर सेकेटरी मुकुल कनितकर ने बताया कि तुषार की इस जीत ने न केवल देश को गर्व महसूस कराया है बल्कि अपने गुरुकुल से प्राप्त की विद्या की ओर भी लोगों का ध्यान केंद्रित किया है. इसके साथ ही उन्‍होंने यह भी कहा कि प्राचीन वैदिक गणित अब एक बार फिर विश्व पटल पर चमकने लगी है.

आगे उन्होनें बताया कि गुरुकुल में इस समय कोई सर्टिफिकेट नहीं है पर आने वाले 10-12 वर्षों में ये भी हो जाएगा जब गुरुकुल को एक ब्रैंड वैल्यू मिल जाएगी. हालांकि विद्यार्थी गुरुकुल में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओपन स्कूलिंग की ओर से अपना एकेडमिक एग्जाम दे सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *